युवा देश के शहीदों से लें प्रेरणा: रमेश

लोहरदगा:शहीददिवसपरविचारक्रांतिद्वाराशनिवारकोयुवाओंकेलिएएकशामशहीदोंकेनामकार्यक्रमकाआयोजनकियागया।जिसकाशुभारंभआगतअतिथियोंनेशहीदभगतसिंह,राजगुरू,सुखदेवकेचित्रपरपुष्पअर्पितकरकिया।मौकेपररमेशकुमारनेकहाव्यक्तिमरजातेहैं,परंतुउनकेविचारहमेशादिलमेंजिदारहतेहैं।युवाओंमेंशहीदोंकेप्रतिसम्मानवशहीदोंकीजीवनीकोजाननेकीलालसाहोनीचाहिए।अनंतदासनेकहाकिभारतयुवाओंकादेशहैयुवाओंकोशहीदोंसेप्रेरणालेनेकीजरूरतहै।भगतसिंहहरपीढ़ीकेआदर्शहै।महेशकुमारसिंहनेकहाकिपूंजीवाद,चाटूकारवअंग्रेजोंकेखिलाफजिसतरहसेभगतसिंह,राजगुरूवसुखदेवनेदेशमेंक्रांतिकीशुरूआतकीथीउसकानतीजाहैकिआजहमारादेशआजादहै।दिलीपकुमारवर्मानेकहाकिशहीदभगतसिंहकेसपनोंकाभारततभीबनेगाजबयुवाउनकेआदर्शोकोअपनाएंगे।उन्होंनेकहाकिजिसतरहसेशहीदभगतसिंहनेशोषण,भयवभ्रष्ट्राचारमुक्तभारतकेनिर्माणकासपनादेखाथा,वहआजभीअधूराहै।कार्यक्रममेंशामिलयुवाओंनेभीअपने-अपनेविचाररखें।जिनमेंदीक्षाश्रीवास्तवनेकहाकिशहीदोंकीजीवनीहमेंसुंदर,स्वच्छवशिक्षितसमाजकेनिर्माणकीप्रेरणादेताहै।हमसबोंकोछात्रजीवनमेंशहीदोंकीजीवनीपढ़नीचाहिततथाउनकेविचारोंकोआत्मसातकरनाचाहिए।उन्होंनेकहाकिभारतशहीदोंकीधरतीहै,हमसबशहीदोंकेकर्जदारहै।जिनकीवजहसेहमेंआजादीमिली।मौकेपरप्रीतमकुमार,असदरेहान,रियाश्रीवास्तव,मुस्कानकुमारी,अनसअहमदसहितकईछात्र-छात्रामौजूदथे।