यहां पैसे से मिलता पानी, मुफ्त का ढूंढने से भी नहीं

मोतिहारी।देहजलादेनेवालीधूप।प्याससेसूखतागला।शरीरसेगिरतापसीना।ऊपरसेशहरीजामकाझाम।लगातारबढ़रहातापमानफिरभीआमआदमीकीप्यासबुझानेकीसरकारीव्यवस्थासूखीपड़ीहै।यकीननहींहोता।लेकिन,हैयहजमीनीहकीकत।कलेक्ट्रेटमेंप्यासलगीतोआरटीपीएसकाउंटरकेपासलगेनलकेपासदौड़ेपरप्यासनहींबुझी।सूखतागलालिएआगेबढ़े।राजाबाजारहोतेहुएपहुंचगएसदरअस्पतालचौक।जेबमेंपैसेनहीं।सो,प्यासबुझानेकासरकारीसाधनढूंढरहेथे।सदरअस्पतालकेप्रवेशद्वारपरहीएकआरओप्वाइंटनजरआया।भागे-भागेपहुंचे।पताचलायहतोमहीनोंसेबंदहै।पासमेंचायकीदुकान।चायबेचरहीमहिलानेपानीदीतोप्यासबुझी।हमशहरीपेयजलव्यवस्थाकीपड़तालकररहेथे।यहआदमीजोपानीकेलिएतड़परहाथा,छौड़ादानोंकारामलालथा।रामलालशहरआएथे।कचहरीमेंकामथा।सौरुपयेथेवकीलबाबूकोदेदिए।पचासबचेहैं।यहींसहाराहैघरतकपहुंचनेका।बाबूक्यापूछतेहैं।पानीकाइंतजामतोहोनाचाहिए..!

शहरमेंपानीकीउपलब्धतापरयहसवालहमेंसतागया।आगेबढ़ेमीनाबाजारकीओर।रास्तेमेंभीचापाकलयासार्वजनिकवाटरपोस्टनहींनजरआया।नगरपरिषदकार्यालयपासएकवाटरप्वाइंटमिला।यहचालूथा।परयह'पेएंडयूज'वाटरएटीएमथा।हमनेपानीकाभावपूछा।पताचला-दोरुपयेमेंएकलीटर।दसरुपयेमें25लीटरपानीबिकरहाथा।लेकिन,इसकेलिएजरूरीहैकिजारवबोतललेकरआदमीयहांजाए।यहांसेआगेपूरेशहरमेंकहींपानीकाइंतजामबेहतरनहींनजरआया।शांतिपुरीमोड़परएकचापाकलदिखा।यहांलोगपानीपीनेआतेहैं।लेकिन,सबकोपानीकेइसठिकानेकापतानहींहोता।सोपैसेवालेदससेबीसरुपयेतककीबोतलबंदपानीखरीदकरअपनीप्यासबुझालेतेहैं।गरीबआबादीपानीकीखोजकरतीहै।रक्सौलकेसंजयकुमारकीसुनिए-सरकारनेशुद्धपेयजलकीउपलब्धताकादावाकिया।लेकिन,सरकारीदावोंकोजमीनपरउतारनेकीजिम्मेदारीजिनकीथी,वोहीइसव्यवस्थाकोचाटगए।नतीजतनयहांपैसेसेपानीमिलताहै।मुफ्तवालातोढूंढतेरहजाएंगे।चापाकलऔरआरओकीव्यवस्थाधाराशायीपड़तालकेदौरानपताचला-शहरकेकचहरीचौक,बसस्टैंड,छतौनी,ज्ञानबाबूचौक,जानपुल,बलुआ,स्टेशनरोडइलाकेमेंसार्वजनिकजगहोंपरलगाएगएचापाकलववाटरपोस्टकीस्थितिठीकनहींहै।कहीं-कहींकाचापाकलसूखगयाहैतोकहींपरकईमहीनोंसेखराबपड़ाहै।कुछजगहोंपरचापाकलगंदगीऔरकचरेकेबीचबीमारीफैलानेकावाहकबनाहै।शहरकेसदरअस्पतालवकचहरीचौकपरलगाएगएआरओकेबंदहोनेसेशहरआनेवालेलोगोंकेसामनेपीनेकेपानीकासंकटहोगयाहै।ग्रामीणइलाकेसेआनेवालीआबादीकाकहनाहैकिस्थानीयप्रशासनकोइसेगंभीरतासेलेनाचाहिए।ताकिगर्मीकेइससीजनमेंलोगप्यासकेमारेनमरें।नहींमिलतातोखातेतरबूज,खीराऔरककड़ीगांवसेशहरआनेवालेलोगोंकोजबशहरमेंपानीनहींमिलताहैतोवेसड़ककिनारेसेतरबूज,खीराऔरककड़ीखरीदलेतेहैं।वजहजाननेपरदर्दऔरआश्चर्यदोनोंहोताहै।वजहयहकिलोगोंकेपासपैसाकमहोताहै।दूसरालोगयेचीजेंखातेहैंतोप्यासऔरभूखदोनोंकुछदेरकेलिएशांतहोजातीहै।

लोकसभाचुनावऔरक्रिकेटसेसंबंधितअपडेटपानेकेलिएडाउनलोडकरेंजागरणएप