वित्त रहित शिक्षण संस्थानों की हो रही अनदेखी : विधान पार्षद

संवादसूत्र,सहदेईबुजुर्ग:

सरकारकीप्राथमिकतामेंशिक्षानहींहै,इसकारणइसकीस्थितिचिताजनकहै।प्राथमिक,माध्यमिकऔरविश्वविद्यालयमेंशिक्षाव्यवस्थाचरमरागईहै।सरकारकीसोचमेंगुणवत्तापूर्णशिक्षानहींबल्किइससेवंचितरखनेकीहै।राज्यमेंशिक्षणसंस्थानऔरशिक्षाकोआगेबढ़ानेकेलिएकोईभीसरकारनेकामनहींकिया।यहबातेंतिरहुतशिक्षकक्षेत्रकेविधानपार्षदडॉ.संजयकुमारसिंहनेअंधराबड़चौकस्थितनीतेशकुमारस्मारकमहाविद्यालयमेंआयोजितअभिनंदनसमारोहकोसंबोधितकरतेहुएकही।

विधानपार्षदनेकहाकिराज्यकीशिक्षाव्यवस्थावित्तरहितशिक्षणसंस्थानोंसेहीचलरहीहै।मैट्रिकऔरइंटरमें60से65प्रतिशतछात्रकेवलवित्तरहितस्कूल-कॉलेजोंसेहीपरीक्षामेंसम्मिलितहोतेहैं।राज्यकीशिक्षाव्यवस्थाकोअपनेकंधोंपरलेकरचलनेवालेशिक्षकोंकीचितासरकारकोनहींहै।राज्यमेंवित्तरहितशिक्षकलगातारसंघर्षकररहेहैं,इनकाघाटाअनुदानितसंस्थानोंमेंपरिणतकरअविलंबटेकओवरकियाजानाचाहिए।उन्होंनेग्रामीणक्षेत्रोंमेंछात्र-छात्राओंकीसंख्याकोदेखतेहुएवितरहितकॉलेजोंमेंसीटोंकीसंख्याबढ़ानेतथाइनकेबकाएअनुदानकीराशिशीघ्रदेनेकीभीमांगकी।उन्होंनेभूमि,भवनऔरउपस्करविहीनस्कलोंकोमाध्यमिकएवंउच्चतरविद्यालयमेंउत्क्रमितकरनेकेसरकारकीनीतियोंकाजमकरविरोधकिया।कहाकिजहांकोईसाधनहीनहींहोंगेवहांछात्रकहांसेपढ़ेंगे।

कार्यक्रमकीअध्यक्षताडॉ.नवलकिशोरशर्माएवंसंचालनसुधीरमालाकारनेकिया।इसमौकेपरकॉलेजसंस्थापकडॉ.राजकिशोरपटेलनेशॉलएवंप्राचार्यप्रो.विकेशकुमारनेमोमेंटोदेकरविधानपार्षदकाअभिनंदनकिया।कार्यक्रममेंप्रो.संजयकुमारराय,प्रो.प्रमोदकुमारशर्मा,प्रो.सुनीलकुमारसिंह,प्रो.उग्रमोहनझा,देवशंकरप्रसादसिंह,प्रो.नरेंद्रकुमारसिंह,रामविनोदशर्मा,प्रियदर्शन,प्रो.पवनकुमार,डॉ.तारकेश्वरपंडित,डॉ.नारायणदास,देवेंद्रप्रसादसिंह,अखिलेशझा,अमीरप्रसाद,विज्ञानस्वरूपसिंह,मधुरासिंह,धर्मेंद्रनाथठाकुरआदिउपस्थितथे।