वीआइपी गांवों में भी ठीक नहीं है तालाबों की हालत

जागरणसंवाददाता,रेवाड़ी:तालाबोंकेसंरक्षणकीबातेंसालोंसालसेहोतीआरहीहै,लेकिनजमीनीस्तरपरप्रयासकभीहुएहीनहीं।जिसग्रामीणअंचलमेंकभीतालाबआधारितपेयजलव्यवस्थाहोतीथीऔरइनकोवहांकीजीवनरेखामानाजाताथा,आजवहांयेबदतरहालातमेंपहुंचचुकेहैं।तालाबोंकेसंरक्षणकोलेकरकिसकदरउदासीनतारहीहै,इसकाउदाहरणशहरसेबिलकुलसटेगांवरामपुरामेंजाकरदेखाजासकताहै।इसवीआइपीगांवतकमेंतालाबबेहदबदहालहालतमेंहै।केंद्रीयमंत्रीकेगांवकोलियाहैजनस्वास्थ्यमंत्रीनेगोद

जिलेकागांवरामपुराइसलिएवीआइपीहै,क्योंकियहकेंद्रीयमंत्रीरावइंद्रजीत¨सहकापैतृकगांवहैंऔरप्रदेशकेजनस्वास्थ्यमंत्रीडॉ.बनवारीलालनेगोदलियाहुआहै।जनस्वास्थ्यमंत्रीकेगोदलेनेकेबादगांवमेंपेयजलवसीवरलाइनतोडालीगईहै,लेकिनकामबेहदधीमीगतिसेचलरहाहै।इसकेअतिरिक्तगंदगीसेलबालबभरेतालाबकीकोईसुधनहींलीजारहीहै।रामपुराकेइसतालाबमेंनसिर्फगांवकागंदापानीसालोंसेजारहाहै,बल्किगंदगीभीइसीमेंडालीजारहीहै।गंदगीकाआलमयहहैकितालाबकेआसपासरहनातकमुश्किलहोरहाहै।हालहीमेंजनस्वास्थ्यविभागकीतरफसेतालाबमेंसेगंदेपानीकोनिकालनेकेलिएमोटरतोलगाईगईहै,लेकिनजितनापानीतालाबसेनिकालाजाताहैउतनाहीगंदापानीगांवसेआकरभरजाताहै।

रामपुरागांवमेंसीवरलाइननहींथी,जिसकेचलतेसारागंदापानीतालाबमेंहीजाताथा।अबसीवरलाइनडलचुकीहैतथातालाबमेंसेगंदापानीभीनिकालाजारहाहै।गंदापानीनिकालनेकेबादतालाबमेंसुधारकियाजाएगा।

-दलबीर¨सह,कनिष्ठअभियंताजनस्वास्थ्यविभाग