उत्तर प्रदेश की इस सीट पर मुलायम सिंह ने तोड़ा था तिलिस्म, लगाई थी जीत की हैट्रिक

सोहमप्रकाश,इटावा।यमुनाऔरचंबलनिजस्वभावकेअनुरूपइटावाकोसींचतीरहीहैं।कभीभावुकमुद्दोंपरलहरोंसंगबहीतोकभीबगावतीतेवरोंसेसबकभीसिखाया।यहीवजहरहीकिसमाजवादीपार्टीकेरघुराजसिंहशाक्यकोछोड़करकोईभीसांसदलगातारदोबारसंसदनहींपहुंचा।तीन-तीनबारसांसदचुनेजानेवालेभीजमीनीपकड़ढीलीपड़तेहीअगलीबारकेदांवमेंफिसलतेरहेहैं।दरअसल,मिट्टीपरपकड़तोउसीकीमजबूतहोगी,जोमिट्टीवालेअखाड़ेकामंझाहुआपहलवानहोगा।चरखादांवकेमास्टरमुलायमसिंहयादवकीसियासीअखाड़ेपरपांचदशकसेयूंहीपकड़नहींबनीहुईहै।

सियासीअखाड़ेकीमिट्टीचंबलकीखारों-करारोंकीमानिंदपथरीलीऔररपटीलीहै।पकड़ढीलीपड़तेहीसंभलनेकामौकानहींदेती।कांग्रेससंस्थापकएलनऑक्टोवियमह्यूमकीकर्मस्थलीइटावानेकांग्रेसकोऐसाभुलायाकिवहतीनदशकसेवनवासभोगरहीहैऔरहरतरफसेनिराशहोकरबाहरसेपहुंचेबसपासंस्थापककांशीरामकोगलेलगालिया।पहलीबारइटावाने1991मेंउनकेलिएसंसदकामार्गप्रशस्तकिया।तभी,सपा-बसपागठबंधनकीबुनियादपड़ीऔर1993मेंगठबंधनसरकारबनी।अबनईसमझकेसाथनईपीढ़ीसाथीबनेहैंतोउसकेपहलेइम्तिहानमेंकामयाबीऔरभविष्यकोलेकरबाहरसेज्यादाघरकेभीतरसेसवालउठरहेहैं।

येभीपढ़ें-LokSabhaElection2019:प्रधानमंत्रीनरेंद्रमोदी23कोरांचीमेंकरेंगेरोडशो

2014कीमोदीलहरमेंसमाजवादीदुर्गपरभगवाफहरातोचुनावनतीजोंनेक्षेत्रीयकेबजायराष्ट्रीयस्तरकेमुद्दोंपरसमर्थनकीसोचविकसितहोनेकीगवाहीदी।शिकस्तखाएसमाजवादी‘कहोदिलसेअखिलेशफिरसे’संकल्पकेसाथसियासीजमीनमजबूतकरनेमेंजुटगए।लेकिन,विधानसभाचुनाव2017आते-आतेघरकीकलहसतहपरआगई।नतीजोंनेसमाजवादियोंकोनिराशकरदिया।इसनिराशासेउबरनेकेलिएनिकायचुनावतककाइंतजारकरना

दरअसल,विधानसभाचुनावमेंइटावालोकसभाक्षेत्रकीपांचोंविधानसभासीटेंफतहकरनेवालीभाजपाकाआठमाहबादहीनिकायचुनावमेंसूपड़ासाफहोगया।लोकसभाक्षेत्रकीचारनगरपालिकापरिषदऔर10नगरपंचायतोंमेंसिर्फतीननगरपंचायतोंपरहीभगवाफहरसका।इननतीजोंनेभाजपामेंवर्चस्वकीजंगकोलेकरफैलीगुटबंदीपरभीमुहरलगाई।भाजपाकेसामनेदुर्गबचानेकीचुनौतीहै।

2014मेंमोदीलहरमेंभाजपाकेचुनेहुएसांसदअशोकदोहरेटिकटकटनेकेबादकांग्रेसकेटिकटपरमुखातिबहैं।भाजपानेराष्ट्रीयअनुसूचितजातिआयोगकेअध्यक्षप्रो.रामशंकरकठेरियापरदांवलगायाहै।वहअभीतकअपनीकर्मभूमिआगरासेसांसदथे।सपा-बसपागठबंधनकेयोद्धाकमलेशकठेरियाहैंतोशिवपालसिंहयादवकीप्रगतिशीलसमाजवादीपार्टीसेशंभूदयालदोहरेभीजोरआजमाइशमेंपीछेनहींहैं।

येभीपढ़ें-आजवायनाडमेंचढ़ेगासियासीपारा,प्रियंकाकीरैलीकारोडशोसेजवाबदेंगीस्मृति

रोजगारएकबड़ामुद्दायातायातसुविधाओंकेतौरपरचाररेलपरियोजनाओं,तीननेशनलहाईवेऔरदोस्टेटहाईवेकेसाथदेशकेमानचित्रमेंइटावाको‘जंक्शन’कीपहचानतोमिली,लेकिनरोजगारकासवालअनसुलझाहीरहा।इटावारोजगारकेमामलेमेंकाफीपिछड़ाहै।कभीकच्चेसूतकेकारोबारऔरराइसमिलोंसेयहांकीपहचानथी।दोदशकपहलेसहकारीसूतमिलबंदहोनेवसरकारकीलेवीनीतिमेंबदलावसेराइसमिलोंमेंतालेपड़नेसेरोजगारकासंकटखड़ाहोगया।

धानउत्पादनमेंप्रदेशमेंखासपहचानरखनेवालेइटावामेंआलू,औरगेहूंकीउपजप्रमुखतासेलीजातीहै।इसबारसरकारनेआलूकासमर्थनमूल्यतयनहींकिया,जिससेकिसानोंमेंनाराजगीहै।गोहानीकेकिसानएसबीएसचौहानपचनदबांधपरियोजनाकाहवालादेतेहुएकहतेहैंकिइसेमंजूरीमिलनेमें35वर्षलगे।

जबनेहरूमुस्कराए

1957मेंकमांडरअर्जुनसिंहभदौरियासांसदबनेतोनेहरूजीसेकहबैठेकिमैंउसइटावासेजीतकरआयाहूंजहांआपभीनहींजीतसकते।इसचुनौतीपरनेहरूतबमुस्कराएभरथे।1962काचुनावआयातोउन्नावकेगोपीनाथदीक्षितकोउनकेमुकाबलेउताराऔरभदौरियाकोहारकामुंहदेखनापड़ा।दीक्षितकेंद्रीयमंत्रीभीबनाएगए।

मुलायमकेतिलिस्मसेलगीहैट्रिक

भलेहीयहांकेमतदाताव्यक्तिगततौरपरसांसदकोअगलीबारनकारानेकाइतिहासरचतेरहेहों,लेकिनयहमुलायमसिंहयादवकातिलिस्मरहाकिमतदाताओंने1999,2004,2009मेंसमाजवादीपार्टीकीहैट्रिकलगाई।अलबत्ता,1992मेंबनीसमाजवादीपार्टीने1996केअपनेपहलेहीसंसदीयचुनावमेंरिकार्डकामयाबीदर्जकरादीथी।यहबातदीगरहैकि1998मेंभाजपानेविजयरथपरब्रेकलगादिया।भलेही17वींलोकसभाकेचुनावमेंमुलायमसिंहयादवनिर्णायकभूमिकामेंनहों,लेकिनयहांधरतीपुत्रकीपकड़आजभीउतनीहीमजबूतहै।देश-दुनियामेंइटावाकीपहचानउनकेनामसेहीजुड़तीहै।

येभीपढ़ें-LoksabhaElection2019:रामपुरमेंजनसभामेंफूट-फूटकररोनेलगेAzamKhan,मुझेनहींलडऩाचुनाव

वीआइपीसीटइटावा

1952बालकृष्णशर्मा

भदौरिया(निर्दलीय)

1962गोपीनाथदीक्षित

1967अर्जुनभदौरिया

(सोशलिस्टपार्टी)

1971श्रीशंकरतिवारी

1977अर्जुनभदौरिया

1980रामसिंहशाक्य

1984चौ.रघुराजसिंह

1989रामसिंह(शाक्य

1996रामसिंहशाक्य

1999रघुराजसिंहशाक्य

2009प्रेमदासकठेरिया

चुनावकीविस्तृतजानकारीकेलिएयहाँक्लिककरें