उजियारपुर में पानी के लिए हाहाकार, सूख गए तालाब और चापाकल

समस्तीपुर।उजियारपुर,प्रखंडमेंजलसंकटगहराताजारहाहै।पिछलेकुछवर्षोंसेवर्षाकाफीकममात्रामेंहोनेकेकारणजलस्तरकाफीनीचेचलागयाहै।चापाकलोंकाहलकसूखचुकाहै।वहींकभीनहीसूखनेवालेतालाबोंमेंधूलउड़रहीहै।जबकिप्रखंडकार्यालयकेपासलगेपीएचईडीकेटंकीसेहजारोंलीटरपानीप्रतिदिनबर्बादहोरहाहै।यहांकिसीभीजगहपरनलनहींलगायागयाहै।गर्मीकेमौसममेंइसतरहकीहालतकोईनईबातनहींहै।विगत10वर्षोंसेऐसीस्थितिसेलोगगुजररहेहैं।सरकारद्वारातालाबोंकेजीर्णोद्धारकीबातेंकागजीखानापूरीरहगईंहैं।जिसकेकारणआमआदमीसेलेकरपशु-पक्षीभीपानीकेबगैरबेहालहोरहेहैं।बावजूदइसकेकोईप्रतिनिधिइससमस्याकेप्रतिगंभीरनहींहै।जनप्रतिनिधियोंकीबेरुखीचांदचैरमध्यपंचायतकेदैतापोखर,महिसारीबाबूपोखर,नाजिरपुर,निकसपुरऔरमालतीसमेतअन्यतालाबोंमेंप्रतिवर्षउड़तीधूलआनेवालेभीषणजलसंकटकासंकेतदेरहीहै।परंतुसरकारकीओरसेतालाबोंमेंजलसंचयकाउपायनहींकियाजानास्थानीयलोगोंकेलिएमुश्किलखड़ीकरसकतीहै।ऐसेमेंक्षेत्रकेलोगोंकेसुख-दुखमेंसाथदेनेकावादाकरनेवालेविधायकऔरसांसदकेप्रतिमोहभंगकरदियाहै।अबफिरचुनावआचुकाहै,फिरवादेकिएजाएंगे।लेकिनइनवादोंपरअमलहोपाएगायानहींइसकेलिएफिरपांचसालइंतजारनाकरनापड़ेप्रशासनभीजलसंकटपरगंभीरनहींइधरसरकारीतंत्रयोजनाओंकेनामपरसिर्फखानापूर्तिकररहाहै,योजनाकीराशिकादुरूपयोगकियाजारहाहै।नतीजायहहोरहाहैकिजीवनकेलिएजरूरीशुद्धपानीलोगोंकोनसीबनहींहोपारहाहै।राज्यसरकारकीसातनिश्चययोजनामेंहरघरशुद्धपेयजलपहुंचानेकीबातकीजारहीहै।लेकिनवास्तविकस्थितिइसकेउलटदिखाईपड़रहीहै।मालती,बेलारी,लखनीपुरमहेशपट्टीसहितसभी28पंचायतोंमेंएकभीपंचायतमेंसातनिश्चयकेतहतहरघरनलकाजलनहींपहुंचपायाहै।योजनामेंलाखोंरुपयेंकीबर्बादीहोचुकीहै।वर्जन

पंचायतकेसभीचापाकलपूरीतरहफेलहोचुकेहैं।वार्ड5मेंदोदिनपहलेनलजलयोजनाशुरूकियागयाहै।वार्ड11मेंभीशुरूकियाजानाहै।परंतुबिजलीविभागकनेक्शननहींदेरहहै।ऐसेमेंजलसंकटकीसमस्याबनीहुईहै।

श्रीरामसाह,मुखिया,परोरिया