तेल की बढ़ी कीमतों के विरोध में आम आदमी पार्टी ने किया विरोध प्रदर्शन,

संवादसहयोगी,फरीदकोट

आमआदमीपार्टीनेतेलकीआसमानछूरहीकीमतोंकेविरोधमेंरोषप्रदर्शनकिया।आपवर्करोंनेयहांकेघनइयाचौकमेंसरकारकेखिलाफनारेबाजीकीवहींकारकोधक्कालगाकरबढ़ीहुईतेलकीमतोंकेखिलाफरोषप्रकटकिया।

आमआदमीपार्टीकेगुरदित्तसिंहसेखोंनेकहाकिकेंद्रसरकारआएदिनबढ़रहीमहंगाईकोकंट्रोलकरनेमेंअसमर्थहै।देशमेंआएदिनतेलकीकीमतोंमेंबड़ेस्तरपरबढ़ोतरीहोरहाहै।जबकिकच्चेतेलकीकीमतेंअंतरराष्ट्रीयबाजारमेंबहुतकमहैं।सरकारकारपोरेटघरानोंकोफायदापहुंचानेकेलिएआमनागरिकोंकाकचूमरनिकालरहीहै।उन्होंनेकहाकिसरकारलोगोंकेखर्चोकोबढ़ारहीऔरअपनीगलतनीतियोंसेआमदनीघटारहीहै।उन्होंनेकहाकिइसीलिएआजउनकीतरफसेमहंगाईकेखिलाफविरोधप्रदर्शनकियाजारहाहै।आमआदमीपार्टीकेपूर्वसांसदप्रो.साधुसिंहनेकहाकितेलकीकीमतोंआएदिनआसमानछूरहीहैं,परन्तुदेशकीसरकारकारपोरेटघरानोंकोलाभपहुंचानेकेलिएकामकररहीहैऔरगरीबऔरमध्यमवर्गपरमहंगाईकीमारपड़रहीहै।उन्होंनेकहाकिकारर्पोरेटघरानेसस्तेभावऔरखरीदकरकेमहंगेभावऔरतेलबेचरहेहैंजिसकेसाथआमलोगोंसेबड़ीलूटहोरही।--पगड़ीसंभालजट्टालहरकेनेताअजीतसिंहकामनायाजन्मदिवसगिद्दड़बाहा(श्रीमुक्तसरसाहिब)

केंद्रकीमोदीसरकारकेखिलाफगुरुद्वारासाहिबश्री10वींपातशाहीप्योरीरेलवेफाटककेनजदीककिसानसंगठनोंकीतरफसेसांझेमोर्चकीतरफसेपगड़ीसंभालजट्टाकेलहरकेनेताअजीतसिंहकाजन्मदिवसमनायागया।इसअवसरपरकिसानोंनेउन्हेंश्रद्धांजलिअर्पितकी।लहरकेनेताअजीतसिंहकेजीवनसंबंधीजानकारीदेतेकिसाननेतालखवीरसिंह,बलराजसिंहतथाकुलदीपसिंहनेबतायाकिमोदीसरकारकीतरह1907मेंअंग्रेजसरकारतीनकिसानविरोधीकानूनलेकरआई।जिसकेविरुद्धपंजाबकेकिसानोंमेंबेहदरोषकीभावनापैदाहुई।अंग्रेजसरकारकेइनकिसानविरोधीकानूनोंखिलाफअजीतसिहंनेआगेआकरकिसानोंकोसंगठितकियातथापूरेपंजाबमेंबैठकोंकासिलसिलाशुरूहुआ।मार्च1907मेंलायलपुरकीएकबड़ीरैलीमेंकिसानोंकीदर्दभरीदास्तानवालीपढ़ीगईकवितापगड़ीसंभालजट्टाकारणअंग्रेजसेनाकोडरपैदाहुआ।इसआंदोलनसेसेनातथापुलिसकेकिसानघरोंकेबेटेबगावतकरसकतेहै।अंतमेंकिसानआंदोलनसेघबराईअंग्रेजसरकारनेमई1907मेंहीयहकानूनरद्दकरदिएलेकिनअजीतसिंहकोछहमाहकेलिएजेलमेंडालदिया।11नवंबर1907कोउसेरिहाकरदियागया।किसाननेताओंनेकहाकिपगडीसंभालजट्टालहरकेनेताअजीतसिंहकेरास्तेपरचलतेहुएकारर्पोरेटघरानोंकीकठपुतलीबनकरमोदीसरकारकीतरफसेलोगोंकेलिएयहकालेकानूनबनादिएहै।उन्होंनेकहाकिकिसानोंकीतरफसेइनकालेकानूनोंकोरद्दकरनेकेलिएसरकारसेआर-पारकीलड़ाईलड़ीजारहीहै।