सूखमपुर माइनर बंद होने से बढ़ी किसानों की परेशानी

संवादसूत्र,कंचौसी:दिबियापुरसिचाईविभागकीलापरवाहीकिसानोंपरभारीपड़रहीहै।सूखमपुरमाइनरकूड़ावझाड़ियोंकीवजहसेबंदपड़ाहै।पानीनआनेसेकिसानोंकेसामनेसिचाईकासंकटउत्पन्नहोगयाहै।

सूखमपुरसेकस्बाहोकरनिकलामाइनरमेंगंदगीकाअंबारलगाहै।इसमेंपानीआनातोमुश्किलहैही,लोगोंकाउसरास्तेसेनिकलनाकठिनहै।कचरावगंदगीसेगंदेनालेमेंतब्दीलहोगयाहै।किसानराजकुमारदुबे,सत्यनरायन,अरविदबाथम,राजू,अबलाखनेबतायाकिलगभग10वर्षसेअधिकसमयव्यतीतहोचुकाहै।माइनरमेंपानीनहींछोड़ागया।हरवर्षसफाईकेबजटकापतानहींचलता।सिचाईविभागकीअनदेखीकिसानोंकेलिएमुश्किलेंबढ़ारहीहै।विभागकेअधिकारीसरकारकेआदेशकीधज्जियांउड़ारहेहैं।कस्बावासियोंकाकहनाहैकिमाइनरकेआसपासघनीबस्तीभीहै।कीचड़युक्तगंदगीसंक्रामकरोगोंकीआशंकाबढ़ारहीहै।किसानोंनेकईबारविभागीयअधिकारियोंकोअवगतकरायालेकिनकोईसुनवाईनहींहुई।किसाननिजीट्यूबवेलोंसेअधिकपैसाभीखर्चकरतेहैं।समयसेपानीभीनहींमिलपाताहै।खेतोंमेंलाइनडालनेसेविवादकीस्थितिभीउत्पन्नहोजातीहै।किसानोंनेजिलाधिकारीसेमांगकीहैकिशीघ्रहीमाइनरकीसफाईकरवाकरपानीछोड़ाजाए।जिससेकिसानोंकोसिचाईसेराहतमिलसके।