सुपौल : 10 हजार क्यूसेक की क्षमता वाली नहर में छोड़ा जा रहा 3600 क्यूसेक पानी

सुपौल।कुसहा-त्रासदीकेबादरेगिस्तानमेंतब्दीलकृषियोग्यभूमिकोनहरोंकेजालरहनेकेबावजूदपानीनसीबनहींहोपारहाहै।जबकिधानजैसीमुख्यफसलकोरोपाईकेबादलगातारपानीचाहिए।कोसीऔरपूर्णियाप्रमंडलकेखेतोंतकपानीपहुंचानेकेलिएनहरोंकाजालबिछाहुआहै।इननहरोंकोअंतिमछोरतकपानीपहुंचानेकोलेकरजलवाहककाकामदसहजारक्यूसेकक्षमतावालीपूर्वीकोसीमुख्यनहरकरतीहै।यहसिचाईप्रमंडलवीरपुरकेजिम्मेहै।दोनोंप्रमंडलकीनहरोंकेअंतिमछोरतकपानीपहुंचानेकीजवाबदेहीमुख्यअभियंतासिचाईसृजनसहरसाकीहै,लेकिनजबपूर्वीकोसीमुख्यनहरमेंहीपानीक्षमतानुसारनहींरहेगातोखेतोंतकपानीकैसेपहुंचपाएगा।दसहजारक्यूसेकक्षमतावालीपूर्वीकोसीमुख्यनहरमेंकोसीबराजकेहेडरेगुलेटिगसेइतनाहीपानीदियाजाताहैकिमुख्यनहरकीतलहटीदिखतीहैजबकिसिचाईप्रमंडलवीरपुरकागजीखानापूर्तिकरतेहुए3600क्यूसेकजलस्त्रावदिखाताहै।इसलिएखेतोंतकजानेवालीसभीछोटी-बड़ीनहरेंसूखीपड़ीहैं।सिचाईप्रमंडलवीरपुरकीविडंबनादेखिएजबवहअपनेकार्यक्षेत्रकीमुख्यनहरसमेतअन्यसभीप्रणालियोंमेंपटवनहेतुपानीनहींपहुंचासकतातोअनुमानकियाजासकताहैकिकैसेदोनोंप्रमंडलोंकेखेतोंतकपानीजाताहोगा।एकतोसिचाईसृजनमेंसभीतबकेकेअभियंताओंकाटोटाभीहै।इसकारणजवाबदेहवरीयअभियंताकागजीखानापूर्तिकरतेहुएकिसानोंकेअच्छीपैदावारकेसाथखिलवाड़करतेहुएबेहालकररखाहुआहै।नहरोंकेसस्तेपटवनकेलिएकिसानोंकेबीचहाहाकारहैलेकिनसूखीनहरेंदेखकरमायूसीकामाहौलहै।