सत्यापन हुआ ही नहीं, थमा दिया 21 करोड़ का काम

सिद्धार्थनगर:बिनाअभिलेखोंकासत्यापनकराएजिलापंचायतकीत्रिस्तरीयकमेटीऔरअधिकारियोंनेमिलकर21करोड़केकामबांटदिए।जनसूचनाअधिकारअधिनियमकेतहतमिलेसूचनामेंटेंडरप्रक्रियामेंअनियमितताकीपोलखुलीहै।चहेतेठीकेदारोंकोकामदेनेकेलिएउनकेअभिलेखोंकासत्यापननकरातेहुएमहजएकशपथपत्रलेकरकामकाअनुबंधकरदियागया।इसेलेकरशासनवप्रशासनमेंशिकायतभीहुईहै।जिलापंचायतबस्तीकेअपरमुख्यअधिकारीनेभीस्वीकारकियाहैकिबगैरचरित्र,हैसियतवजीएसटीप्रमाणपत्रकासत्यापनकराएअनुबंधगठितनहींकीजासकती।जिलापंचायतनेदोबारनिविदाप्रकाशितकी।पहलीबारमें198कामकेसापेक्ष72ठीकेदारोंसेअनुबंधकियागया।शेष126कामकादूसरानिविदाप्रक्रियाप्रकाशितहुई।इसमेंप्रतिभागकरनेवाले42ठीकेदारोंसेविभागनेअनुबंधकियाहै।एकनिविदानिरस्तहुईथी।रनिगपेमेंटकरनेकीप्रक्रियाभीशुरूकरदीगईहै।

आरटीआइकार्यकर्ताप्रशस्तउपाध्यायएडवोकेटनेअपरमुख्यअधिकारीसिद्धार्थनगरवबस्तीसेजनसूचनाअधिकार2005केतहतअलग-अलगदोबिदुओंपरसूचनामांगी।एएमएसिद्धार्थनगरसेपूछाकिक्याजिलापंचायतमेंपंजीकृतफर्मवठीकेदारकेपंजीयनप्रपत्रचरित्र,हैसियत,जीएसटीकासत्यापनकरायागयाहै।जवाबमिलाकिप्रपत्रोंकासत्यापननहींकरायागयाहै।संबंधितअभिलेखोंकीसत्यताकेसंबंधमेंफर्मवठीकेदारोंसेनोटरीवशपथपत्रलियागयाहै।वहींबस्तीकेएएमएनेजवाबदियाकिबगैरअभिलेखोंकेसत्यापनकेठीकेदारकाअनुबंधनहींहोसकताहै।

11अप्रैल2018कोतत्कालीनविशेषसचिवशासनजीतेंद्रबहादुरसिंहनेसभीजनपदकेजिलापंचायतकार्यालयकोशासनादेशप्रेषितकियाथा।उसमेंकहागयाथाकिचरित्रवहैसियतप्रमाणपत्रकासत्यापनकिएबिनाकिसीठीकेदारकाकार्यदायीसंस्थामेंपंजीयननहींकियाजासकता।चरित्रप्रमाणपत्रकासत्यापनप्रतिवर्षकरायाजाएगा।

तीनमाहकारावासकाहैप्रावधान

अपरमुख्यअधिकारीबस्तीनेजवाबमेंकहाहैकिउत्तरप्रदेशक्षेत्रसमितितथाजिलापरिषदअधिनियम1961कीधारा240मेंकहागयाहैकिनियमकाउल्लघंनकरनेवालेपर250रुपयेअर्थदंडलगायाजाएगा।निरंतरअपराधकरनेकीस्थितिमेंप्रतिदिनदसरुपयेकीदरसेआर्थिकदंडलगायाजाएगा।आर्थिकदंडनहींदेनेपरतीनमाहकारावासकीसजाहोसकतीहै।

ऐसेपंजीकृतठीकेदारजिनकेप्रपत्रपरपूर्ववर्तीजिलाधिकारीकुणालसिल्कूकाहस्ताक्षरहैं,उनकासत्यापनपहलेहीकरालियागयाथा।इसकेबादबनेप्रपत्रोंकाअभीसत्यापननहींकरायागयाहै।शिकायतहुईहैतोनएकाभीसत्यापनकरालियाजाएगा।

हरिओमनारायणचंद

अपरमुख्यअधिकारी