सत्ता में आते ही भूल जाते हैं पहाड़ की पीड़ा

शिमला,प्रकाशभारद्वाज।हिमालयकेअंचलमेंबसाहिमाचलप्राकृतिककोपझेलरहाहै,मगरराज्यकेदोनोंबड़ेराजनीतिकदलभाजपाऔरकांग्रेसइससेबेखबरहैं।बेशकदोनोंपहाड़कीचिंताकरतेहैं,लेकिनसत्तामेंआतेहीपहाड़कीपीड़ाकोभूलजातेहैं।नियमोंकोदरकिनाररखकरविद्युतपरियोजनाओंकोमंजूरीदेतेहैं।

प्रदेशमेंकहींपहाड़दरकरहेहैंतोकहींनदियांउग्ररूपदिखारहीहैं।पर्यावरणसंतुलनबिगडऩेसेग्लेशियरसिकुड़तेजारहेहैंतोवनोंकाघनत्वकमहोरहाहै।इसबारकांगड़ा,लाहुल-स्पीति,सिरमौरवकिन्नौरमेंहुईप्राकृतिकआपदाएंइसकाबड़ाउदाहरणहै।

भाजपाकेचुनावघोषणापत्रमेंहिमालयकोबचानेकेलिएकिसीप्रकारकाकोईउल्लेखनहींकियागयाथा।सरकारकीओरसेभीइसदिशामेंकोईकदमभीनहींउठायागयाहै।विपक्षमेंबैठीकांग्रेसनेभीहिमालयकोबचानेकाप्रयासनहींकिया।

भाजपानेताप्रेमकुमारधूमलकेमुख्यमंत्रीकार्यकालमेंपहाड़ीक्षेत्रोंकोएकीकृतकरनेकेहिमालयीराज्योंकेविकासकेलिएपरिषदगठितकरनेकाप्रयासहुआथा।हरसालप्रदेशमेंएककरोड़सेअधिकपौधेरोपेजातेहैैं।यदिपांचवर्षकेदौरानकिएगएपौधारोपणकोसंरक्षितकियागयाहोतातोप्रदेशमेंखालीजगहनहींरहती,हरजगहपरपौधेहोते।

हिमालयबचेगा,तभीदेशबचेगा

प्रदेशमेंबड़ीसंख्यामेंजलविद्युतपरियोजनाएंस्थापितकीजारहीहैं।नदी-नालोंमेंअवैधखननहोरहा।अवैधकटानसेजंगलकमहोरहेहैं।विद्युतपरियोजनाएंस्थापितकरनेसेपहलेसमीक्षाहोनीचाहिएकिपहाड़इनकेबोझकोउठानेकीक्षमतारखतेहैंयानहीं।वनोंकोसंरक्षितरखनेकेलिएसख्तकदमउठानेकीजरूरतहै।

-कुलदीपसिंहराठौर,अध्यक्ष,प्रदेशकांग्रेस।

हिमाचलतोहिमालयकाअंगहै

हमसबकोहिमालयकोबचानेकेलिएप्रयासकरनेचाहिए।हिमाचलतोहिमालयकाअंगहै।इसलिएहमारेलिएहिमालयकाबहुतअधिकमहत्वहै।हिमालयकाहरतरहसेसंरक्षणकरनाचाहिए।हमेंहरतरहसेहिमालयकोबचानेकीबातकरनीचाहिए।इसीउद्देश्यकोध्यानमेंरखकरसरकारनीतिनिर्धारणकरतीहै।

-सुरेशकश्यप,अध्यक्ष,प्रदेशभाजपा।