सरकारी सम्मान के साथ हुआ शहीद गुरबाज सिंह का अंतिम संस्कार

जागरणसंवाददाता,बटाला:गतदिनोंबर्फीलेतूफानकीचपेटमेंआनेसेअरुणाचलप्रदेशकीभारत-चीनसीमापरभारतीयसेनाकेजवानगुरबाजसिंहशहीदहोगयाथा।उनकाशनिवारकोपूरेसरकारीसम्मानकेसाथअंतिमसंस्कारउनकेगांवमसानियांमेंकियागया।शनिवारदोपहरजबशहीदगुरबाजसिंहकाशवगांवपहुंचातोगांवकेयुवाओंनेशहीदगुरबाजसिंहअमररहेकेजयघोषकी।शहीदकेअंतिमसंस्कारकेसमयडीसीगुरदासपुरकीतरफसेतहसीलदारबटालाजसकर्णसिंहनेशहीदकोश्रद्धांजलिअर्पितकी।तहसीलदारबटालानेशहीदकेपरिवारसेदुखजतायाऔरसाथहीउन्हेंआश्वासनदिलायाकिसरकारकीनीतिकेतहतशहीदकेपरिवारकीहरतरहसेमददकीजाएगी।भारतीयसेनाकेअधिकारियोंनेभीशहीदकोश्रद्धांजलिअर्पितकी।शहीदकेअंतिमसंस्कारकेसमयगांवकेलोगोंकेअलावाबड़ीसंख्यामेंइलाकानिवासियोंनेपहुंचकरशहीदकोनमनकिया।शहीदकेसंस्कारकेमौकेपरभारतीयसेनाकेजवानोंनेमातमीधुनबजाकरवशस्त्रउल्टेकरशहीदकोश्रद्धांजलिअर्पितकी।शहीदकेशवकोमुखाग्निउनकेपितागुरमीतसिंहनेदी।

गांवकेहीहरविदरसिंहवमनजीतसिंहनागरानेबतायाकिगुरबाजसिंहतीनसालपहलेहीसेनामेंभर्तीहुआथाऔरइससमयवहअरुणांचलप्रदेशकीभारत-चीनसीमापरतैनातभारतीयसेनाकी62मीडियमफील्डरेजीमेंटमेंसेवाएंनिभारहाथा।छहफरवरीकोअरुणाचलप्रदेशकीभारत-चीनसीमापरगश्तकेदौरानइसरेजीमेंटसातजवानबर्फीलेतूफानकीचपेटमेंआगएथेऔरबर्फकेढेरमेंदबनेसेशहीदहोगयाथा।हमेंअपनेगांवकेबहादरजवानगुरबाजसिंहपरबेहदगर्वहैऔरदेशकीखातिरअपनीजानन्यौछावरकरनेवालेगुरबाजसिंहदेशवासियोंकेलिएप्रेरणास्त्रोतहै।