सरकार व विभाग ने किया दरकिनार, प्रधान-जवान ने पेश की मिसाल

दीनानाथशास्त्री,जाहू

सरकारऔरशिक्षाविभागकीअनदेखीकेबादभलवानीपंचायतकेलोगोंनेराजकीयप्राथमिकपाठशालाककड़ोटकोमॉडलस्कूलबनानेकासंकल्पलियाहै।इसकेलिएसबसेपहलेएकलाखरुपयेसेअधिकराशिखर्चकरकेस्कूलभवनकीमरम्मतकरवाकरस्कूलकोबच्चोंकेबैठनेयोग्यबनायाउसकेबादस्कूलकोमॉडलबनानेकेलिएप्रयासतेजकिएजाएंगे।

प्रारंभिकशिक्षाखंडभोरंजकेअंतर्गतआनेवालीयहपाठशालाग्रामीणोंकीमांगपर1974-75मेंखोलीगईथी।सबसेपहलेइसस्कूलकीकक्षाएंककड़ोटगांवमेंलगतीथी,लेकिनबादमेंग्रामीणोंद्वाराभूमिदानदेनेपरतीनकमरोंवालेस्लेटनुमाभवनकानिर्माण1979-80मेंकियागया।भवनकाउद्घाटनतत्कालीनराजस्वमंत्रीस्व.चौधरीधर्मसिंहनेकियाथा।लंबेसमयसेभवनकीमरम्मतनहोनेसेभवनकीस्थितिदयनीयहोचुकीथी।छतमेंडालीगईबांसकीलकड़ियांसड़करगिरचुकीथीऔरहवासेस्लेटटूटचुकेथे।बारिशकापानीछतसेटपकताथा।दीवारेंजर्जरहोचुकीथी।इसकारणस्कूलप्रशासनबच्चेदूसरेकमरोंमेंबैठानेपड़तेथे।एककमरेमेंचलरहाआंगनबाड़ीकेंद्रभीदूसरीजगहबदलनापड़ाथा।भलवानीपंचायतप्रतिनिधियोंनेप्रस्तावपारितकरकेकईबारस्कूलभवनकीदयनीयदशाकोसुधारनेकीमांगसरकार,प्रशासनऔरशिक्षाविभागसेकीपरकिसीनेएकनसुनी।इसकेचलतेइसस्कूलसेशिक्षाग्रहणकरचुकेपंचायतप्रधानवएकसैनिकनेमिलकरस्कूलभवनकीछतकीमरम्मतकरवाई।इसमेंएकलाखरुपयेसेअधिकराशिदोमाहमेंखर्चकरकेबांसकीलकड़ीऔरस्लेटडालकरभवनकोबच्चोंकेबैठनेलायकतैयारकिया।स्कूलमें2018-19मेंपहलीसेपांचवींतकबच्चोंकीसंख्या26थी,लेकिनभवनकेखस्ताहालकेकारणबच्चोंकीसंख्याघटकरअबसत्र2019-20में16रहगईहै।इनबच्चोंकोदोशिक्षकपहलीसेपांचवींकक्षातकशिक्षाप्रदानकररहेहैं।

शिक्षाविदोंनेपंचायतकेकार्यकोसराहा

सेवानिवृत्तशिक्षाउपनिदेशकउच्चतरज्ञानचंदशर्मा,सेवानिवृत्तप्रधानचार्यएलआरशर्मा,प्रकाशचंदशर्मा,सेवानिवृत्तशिक्षकरूपचंदशर्मा,ग्रामीणचमनलाल,अमनदीपकाकहनाहैकिअगरपंचायतप्रतिनिधिवग्रामीणस्कूलोंकेकार्यमेंभीभागलेंगेतोसहीमायनोंमेंमेंशिक्षाकाढांचामजबूतहोगा।भलवानीपंचायतकायहप्रयाससरानीयहै।इससेअन्यलोगोंकोभीसीखलेनीचाहिए।

क्याकहतेहैंपंचायतप्रधान

भलवानीपंचायतप्रधानसंजीवअंगारियाकाकहनाहैकिककड़ोटस्कूलकीएकलाखसेअधिकरुपयेखर्चकरकेतीनकमरोंवालेभवनकीछतवदीवारोंकोमरम्मतकीगई।इसस्कूलकोमॉडलबनायाजाएगा।इसकेलिएजल्दहीऔरप्रयासकिएजारहेहैं।