सहिजरा सहित पाकिस्तान के चार गांवों पर फौज ने लहरा दिया था तिरंगा

धर्मबीरसिंहमल्हार,तरनतारन

तीनदिसंबर1971कीशामकरीबछहबजेकावक्तरहाहोगा।गोलियोंकीआवाजेंसुनाईदेनेलगी।लोगोंमेंदहशतफैलगई।पताचलाकिपाकिस्तानकेसाथभारतीयसेनाकीजगशुरूहोगईहै।फिरलोगट्रेन,बस,घोड़ागाड़ीयानिजिसकोजोमिलाउसीसेघरछोड़करसुरक्षितस्थानोंकीओरबढ़नेलगे।गांवचीमाकेपासहवाईजहाजसेएकबमगिरा।उससमयएकबसकेशीशेवगैराटूटगए।देखतेहीदेखतेखेमकरणखालीहोगया।यहकहनाहैखेमकरणनिवासी63वर्षीयहरजिदरसिंहका।1971कीजंगकेदौरानपैदाहुएहालातोंकेसंबंधमेंहरजिदरसिंहनेबतायाकिउसलड़ाईमेंअधिकनुकसानपाकिस्तानकाहीहुआ।हालांकिखेमकरण,मेहंदीपुर,मस्तगढ़,माछीके,रत्तोके,भूराकोहनागांवोंमेंभारतीयसेनापूरीतरहसेपाकफौजकामुकाबलाकरतीरही।गांवमेहंदीपुरकीतरफसेभारतीयसेनानेपाकिस्तानकेगांवसहिजराकीओरअपनाकब्जाबढ़ातेपाककेचारगांवकब्जेमेंलेकरतिरंगालहरादियाथा।बसलाहौरसेकुछकोसहीदूररहगईथीभारतीयफौज।16दिसंबरतकचलीइसलड़ाईकेदौरानभारतीयसेनाकेसेकेंडलेफ्टिनेंटविजयपालबहलव31वींबटालियनकेसबइंस्पेक्टरइकबालसिंहवीरगतिकोप्राप्तहुएथे।यहदोनोंखेमकरणसेसंबंधितथे।हरजिदरसिंहनेबतायाकिविजयपालबहलखेमकरणसेक्टरमेंशहीदहुएथे।जबकिसबइंस्पेक्टरइकबालसिंहफिरोजपुररेंजमेंदुश्मनमुल्ककेसाथलड़तेहुएवीरगतिकोप्राप्तहुएथे।

हरजिदरसिंहनेबतायाकि1971कीलड़ाईकेदौरानभलेहीकस्बाखेमकरणखालीहोगयाथा,परंतुप्रत्येकघरकेएक-एकसदस्यनेफौजकाहौंसलाबढ़ानेलिएअपनीपूरीवाहलगाई।हरजिदरसिंहबतातेहैंकिदेशकीआजादीकेबाद1965,1971मेंयहकस्बापूरीतरहसेउजड़ा।फिरकारगिलकीलड़ाईकेदौरानलोगयहांसेपलायनकरकेनिकलगए।

सर्जिकलस्ट्राइकदौरानपैदाहुएहालातोंमेंभीसीमावर्तीक्षेत्रकेलोगउजाड़ेकाशिकारहोतेरहे।परंतुसमयकीसरकारोंनेसीमावर्तीक्षेत्रकेलोगोंकीसुधनहींली।