शहरीकरण की चुनौती: ग्रामीण क्षेत्रों में शिक्षा, स्वास्थ्य और रोजगार देकर पलायन की रफ्तार थम सकती है

केंद्रीयआवासएवंशहरीविकासमंत्रीहरदीपसिंहपुरीकीओरसेदीगईयहजानकारीशहरीकरणकीचुनौतियोंकासामनाकरनेकाहीसंदेशदेरहीहैकिवर्ष2030तकदेशकी40प्रतिशतआबादीशहरोंमेंरहरहीहोगी।शहरोंमेंअधिकआबादीरहनेकामतलबहैकिउनकाआधारभूतढांचासंवारनेकाकामयुद्धस्तरपरकियाजाएताकिवेबढ़ीहुईआबादीकाबोझसहनेमेंसमर्थरहेंऔरसाथहीरहनेलायकभीबनेरहें।हरदीपपुरीकेअनुसारआबादीमेंवृद्धिकेकारणशहरोंमेंहरसाललाखोंवर्गमीटरजमीनकीव्यवस्थाकरनीहोगी।कोईभीसमझसकताहैकियहजमीनशहरोंकेआसपासकेग्रामीणइलाकोंकोनगरीयक्षेत्रघोषितकरनेसेहीहासिलहोसकेगी।

ग्रामीणक्षेत्रतोतेजीकेसाथशहरोंमेंसमातेजातेहैं,लेकिनऐसेक्षेत्रोंकाविकासबेहदकामचलाऊसेढंगहोताहै।जिनभीसरकारीविभागोंपरभविष्यकीजरूरतोंकोध्यानमेंरखकरशहरीढांचेकानिर्माणकरनेकीजिम्मेदारीहोतीहैवेनियोजितविकासकेनामपरखानापूरीतोकरतेहीहैं,अदूरदर्शिताकाभीपरिचयदेतेहैं।इसकेचलतेनयाबनाढांचाकुछहीसमयबादअपर्याप्तसाबितहोनेलगताहै।समस्यायहभीहैकिजहांशहरोंकेनएइलाकोंकाअनियोजितऔरमनमानाविकासहोताहैवहींपुरानेइलाकोंकेजर्जरहोतेढांचेकोदुरुस्तकरनेसेबचाजाताहै।इसीकानतीजाहैकिहमारेशहरगंदगी,जलभराव,प्रदूषण,अराजकयातायात,अतिक्रमण,सघनआबादीवालेमोहल्लोंऔरझुग्गीबस्तियोंसेघिरतेजारहेहैं।इनसमस्याओंकेमूलमेंहैशहरीकरणसेजुड़ेविभागोंमेंव्याप्तभ्रष्टाचारऔरसाथहीजवाबदेहीकाअभाव।इसकेकारणहीनियोजितविकासकीकदम-कदमपरअनदेखीभीहोतीहैऔरसरकारीधनकादुरुपयोगभी।

इसमेंसंदेहहैकिकेंद्रसरकारकीसहायतासेशहरोंकोस्मार्टसिटीमेंतब्दीलकरनेवालीयोजनाओंसेशहरोंकीसूरतबदलीजासकेगी,क्योंकिशहरीढांचेकाविकासकरनेऔरउसकीगुणवत्ताबनाएरखनेकीजिम्मेदारीतोउननगरनिकायोंकीहैजोराज्यसरकारोंकेअधीनकामकरतेहैं।यहसमझनेकीसख्तजरूरतहैकिनगरनिकायोंकीकार्यप्रणालीबदलेबिनाशहरोंकोसंवारनेकाकामनहींकियाजासकता।

बेहतरहोकिकेंद्रसरकारराज्योंकोइसकेलिएतैयारकरेकिवेशहरीकरणकीचुनौतियोंसेजूझनेमेंगंभीरताकापरिचयदें।इसकेसाथहीयहभीआवश्यकहैकिऐसीयोजनाएंबनाईजाएंजिससेगांवोंमेंशहरोंजैसीसुविधाएंउपलब्धहोसकेंताकिशिक्षा,स्वास्थ्यऔररोजगारकेलिएग्रामीणक्षेत्रोंसेशहरोंकोहोनेवालेपलायनकीरफ्तारकुछथमे।