शावकों के साथ गुलदार की धमक से ग्रामीणों में खौफ

संवादसहयोगी,रानीखेत:तहसीलकेविभिन्नग्रामीणक्षेत्रोंमेंइनदिनोंगुलदारकाआतंकबनाहुआहै।अबतककईमवेशियोंकोअपनाशिकारबनाचुकेगुलदारकेभयसेजहांलोगबच्चोंकोस्कूलभेजनेसेकतरानेलगेहैंवहींमहिलाएंखेतोंवजंगलमेंचाराघासकोजानेसेडररहीहैं।ग्रामीणोंनेवनविभागसेप्रभावितपरिवारोंकोमुआवजादेनेतथागुलदारकेआतंकसेनिजातदिलानेकीगुहारलगाईहै।

तहसीलकेद्वारसौंक्षेत्रसेसटेकारखेत,मनबजूना,उरोली,तुरकौड़ाआदिगांवोंमेंगुलदारकीधमकग्रामीणोंकेलिएजीकाजंजालबनगईहै।ग्रामीणोंकाकहनाहैकिगुलदारअपनेबच्चोंकेसाथदिनमेंहीखेतोंवआबादीकेआसपासदिखाईदेरहाहै।जिसकारणलोगबच्चोंकोस्कूलभेजनेतथाअकेलेइधरउधरआनेजानेसेकतरानेलगेहैं।ग्रामप्रधानउरोलीविनीताबोराकाकहनाहैकिगुलदारइतनानिडरहोगयाहैकिदिनमेंहीबच्चोंकेसाथद्वारसौंकाकड़ीघाटरोडपरविचरणकररहाहै।बतायाकिगुलदारअबतकतुरकौड़ानिवासीपनीरामकीगाय,श्यामलालकीदोतथाबालकिशनकीएकबकरीकोअपनानिवालाबनाचुकाहै।ग्रामीणमोहनसिंह,जशोदसिंह,पूर्वप्रधानराजेंद्रसिंह,लछमसिंह,कै.कुंदनसिंह,मदनसिंहआदिनेवनविभागसेप्रभावितपरिवारोंकोमुआवजादेनेतथागुलदारकेआतंकसेनिजातदिलानेकोपिंजड़ालगानेकीमांगकीहै।