शाम को गतके की प्रैक्टिस करने गए किशोर का सुबह पेड़ से लटकता मिला शव

जागरणटीम,गुरदासपुर,बहरामपुर:संदिग्धहालातमेंएक16सालकेअमृतधारीकिशोरकाशवगांवकेखेतोंमेंपेड़सेलटकतामिला।किशोरकेशवकोदेखकरबड़ीसंख्यामेंगांवकेलोगइकट्ठेहोगएऔरपेड़सेउसकाशवउतारा।घटनाकस्बाबहरामपुरकेगांवजागोवालटांडाकीहै।थानाबहरामपुरकीपुलिसनेशवकोकब्जेमेंलेकरसिविलअस्पतालसेपोस्टमार्टमकरवाकरशवपरिजनोंकोसौंपदियाहै।जांचअधिकारीकेमुताबिकपोस्टमार्टमरिपोर्टआनेकेबादहीमामलेकीकोईकार्रवाईआगेबढ़ेगी।फिलहाल174कीकार्रवाईकीगईहै।

सिविलअस्पतालकेशवगृहकेबाहरसुखविदरसिंहनेबतायाकिउनकाबेटामनप्रीत12वींकक्षामेंदीनानगरकेसरकारीस्कूलमेंपढ़ताथा।उसनेबचपनसेहीअमृतबाणापहनरखाहै।गांवकेगुरुद्वारासाहिबमेंसुबहशामसेवाकरनेकेलिएजाताथा।बुधवारकोदशमपातशाहीश्रीगुरुगोबिदसिंहजीकाप्रकाशपर्वगांवसेसजायाजाएगा।उसकीतैयारियोंमेंमनप्रीतजुटाहुआथा।मनप्रीतकोगुरुपर्वपरगतकोंकाजौहरदिखानाथा,इसलिएवहदेरशामतकगुरुद्वारासाहिबमेंप्रैक्टिसकरताथा।सोमवारकोभीवहशामकेसमयगुरुद्वारासाहिबमेंसेवाकरनेकेबादगतकोंकीप्रैक्टिसकररहाथा।अक्सरवहशामकोछहसातबजेतकघरलौटआताथा,लेकिनसोमवारवहघरनहींलौटा।गुरुद्वारासाहिबमेंग्रंथीसेपूछातोउन्होंनेकहाकिवहरोजकीतरहसातबजेकेकरीबयहांसेचलागयाहै।फिरउन्होंनेपूरेगांवमेंउसेढूंढा,मगरउसकाकहींकुछपतानहींचला।

पूरीरातवहमनप्रीतकोगांवसेबाहरतकढूंढतेरहेऔरउसकेदोस्तोंसेभीपूछा,लेकिनकिसीकोमनप्रीतकेबारेमेंकुछपतानहींथा।फिरमंगलवारसुबहआठबजेकेकरीबगांवकेएकव्यक्तिनेखेतोंमेंएकपेड़केसाथमनप्रीतकाशवलटकतादेखा।उसनेउन्हेंसूचितकिया।गांवकेलोगोंकीमददसेशवकोपेड़सेनीचेउतारा।थानाबहरामपुरकेएसएचओहरजीतसिंहनेबतायाकिमामलेमेंफिलहाल174कीकार्रवाईकीगईहै।जांचमेंमामलेकीसहीजानकारीमिलेगी।मनप्रीतकीनकिसीसेरंजिशथीऔरनपरेशानथा

सुखविदरसिंहनेबतायाकिउनकीऔरनहीउसकेबेटेकीकिसीकेसाथकोईरंजिशहै।उनकाबेटातोहरएककेसाथप्यारसेरहताथा।बड़ोंकेपांवछूताथा।मगरउनकेबेटेकीअचानकऐसेपेड़सेलटकताशवमिलनाउन्हेंकुछसमझनहींआरहा।उनकाबेटाकिसीपरेशानीमेंभीनहींथा।आखिरयहकदमउसनेकैसेउठालिया।बड़ाभाईशिरोमणिकमेटीमेंकरताहैकाम

सुखविदरसिंहनेबतायाकिवेगांवमेंचौकीदारहैं।उनकाबड़ाबेटाअमृतसरशिरोमणिकमेटीमेंकामकरताहै।छोटाबेटामनप्रीतभीबड़ाहोकरशिरोमणिकमेटीमेंकामकरनाचाहताथा।तभीवहबचपनसेहीगुरुकीलाइनमेंलगाहुआहै।वहसुबहचारबजेउठकरगुरुद्वारासाहिबमेंमाथाटेकनेजाताथा।आखिरकैसेउसकीमौतहोगई।गुरुपर्वकीतैयारियांपड़ीफीकी

मनप्रीतकीमौतकेबादगांवमेंदशमपातशाहीश्रीगुरुगोबिदसिंहजीकेप्रकाशपर्वकीतैयारियांफीकीपड़गईहैं।अबगांवमेंमातमकामाहौलबनगयाहै।हालांकिमनप्रीतखुदपिछलेकईदिनोंसेगुरुद्वाराकीप्रबंधककमेटीकेसाथगुरुपर्वकीतैयारियोंमेंजुटाहुआथा।अबउसकीमौतसेतैयारियांरुकगईहैं।