सांसद हो ऐसा जो हमारी समस्या का करे निदान

चन्दौसी:लोकतंत्रकामहापर्वलोकसभाचुनावअपनेपूरेरंगमेंरंगनाशुरूहोगयाहै।मतदाताभीअपनीभागीदरीकेलिएतैयारहोगएहै।लोगोंनेनएसांसदसेनई-नईउम्मीदलगानीशुरूकरकरदीहै।लोगोंकाकहनाहैकिक्षेत्रमेंविकासकीबहुतजरुरतहै।इसबारउसीकोहमलोगवोटदेंगेजोहमारेशहरकेअलावाजिलेमेंविकासकरेगा।चन्दौसीमेंसबसेबड़ीसमस्याओवरब्रिजकीहैतोजिलेमेंस्थाईमुख्यालयकानिर्माणनहोनाभीहमारेलिएनुकसानदायकसाबितहोरहाहै।

विष्णुकाम्पलेक्ससुपरमार्केटमेंआयोजितदैनिकजागरणकीचौपालमेंव्यापारीकमलगुप्तानेकहाकिधर्मऔरजातिकीराजनीतिकेचलतेविकासमुद्दालुप्तहोताजारहाहै।ओवरब्रिजकीमांगहमलोगपिछलेकईसालसेकररहेहैं,लेकिनअभीतकहमारीमांगपूरीनहींहुईहै।कईबारआश्वासनमिलाहै,लेकिनअभीतकओवरब्रिजनहींबना।व्यापारीमहताबसमशीनेकहाकिअबराजनीतिकदलविकासकीकमधर्मऔरराजपातकीबातअधिककररहेहैं,लेकिनहमेंइसबारधर्मऔरजातिकीराजनीतिसेऊपरउठनाहोगा।हमेऐसेव्यक्तिकोसांसदबनानाहोगाजोहमारेक्षेत्रयुवाओंकोरोजगारदिलानेकाप्रयासकरे।व्यापारीशिशिरवाष्र्णेयनेकहाकिलोकतंत्रमेंसबसेअच्छीबाततोयहीहैकिहमेंअपनीसरकारचुननेकामौकामिलताहै,लेकिनकुछलोगइसमौकेभुनानेकेबजाएघरहीबैठेरहतेहै।मतदानकरनाहमाराअधिकहै।हमेंमतदानकरनाचाहिए।व्यापारीनितिनरस्तोगीनेकहाकिदेशसेहमभ्रष्टाचारसमेतअन्यसमस्याओंकोवोटकेदमपरहीखत्मकरसकतेहै।इसलिएसभीकोआगेआकरमतदानकरनाचाहिएऔरप्रत्याशीकेकिसीभीलालचनआकरबेहतरसरकारचुननाचाहिए।कोट:-

लोगोंकोमतदानअवश्यकरनाचाहिएहमारेएकवोटपरहीजीत-हारतयहोतीहै।हमारेवोटनकरनेसेसहीनेताकाचयननहींहोपाताहै।हमअपनेवोटऐसेप्रत्याशीकोजिताकरसंसदमेंभेजसकतेहैजोहमारेक्षेत्रमेंविकासकरेगाऔरऐसीसरकारबनासकतेहैजोदेशमेंविकासकरेगी।

बाबूलाल,अधिवक्ताकोट-

पिछलेचुनावमेंकईगांवकेमतदाताओंनेअपनेमतकाप्रयोगनकरबहिष्कारकियाथायहजागरूकताकीहीकमीथी।मतदानकाबहिष्कारकरनेसेबेहतरनोटाकाविकल्पचुननाहोताहै,लेकिनबहिष्कारकरनेकेबजाएऐसेप्रत्याशीकोवोटदे,जोहमारीसमस्याओंकानिदानकरे।

प्रिस,अधिवक्ताकोट:-

मतदातास्वतंत्रहोताहै,वहस्वयंनिष्पक्षनिर्णयलेकरअपनेमतकाप्रयोगकरे।बच्चोंकोमतदानकेलिएबतानाचाहिएक्योंकिआजकेबच्चेकलकाभविष्यहोतेहैं।बच्चेहीअपनेपरिवारकोजागरूककरनेमेंभीअहमभूमिकानिभातेहैं।उन्होंनेकहाकिमतदानकोएकसब्जेक्टकेरूपमेंमान्यतादेनीचाहिए।

सचिनगुप्ताकोट-

धर्मजातकेबहकावेमेंनआकरविकासपरवोटदें।वोटडालनाहरव्यक्तिकाअधिकारहै।वोटनडालनेसेसहीप्रतिनिधिकाचुनावनहींहोपाता।इसकेलिएजरूरीहैकिहरव्यक्तकोवोटडालनाचाहिए।

आशीषकुमारकोट:-

हरव्यक्तिकेमतदानकरनेसेमतदानफीसदबढ़ताहै।यदिकिसीव्यक्तकोपार्टीयाप्रत्याशीसमझमेंनआएतोउसेनोटाकाविकल्पचुनसकताहै,लेकिनमतदानकरनेकेलिएमतदानकेंद्रतकजरुरपहुंचे,क्योंकिहमेंहीअपनेमतकेमाध्यमसेपांचसालकेलिएदेशकीसत्तासौंपनीहै।

चरनजीतसिंह,व्यापारीकोट:-

तमामशिक्षितलोगभीवोटडालनेकेलिएमतदानकेंद्रपरनहींपहुंचतेहै।मतदानदिवसकोवहअपनाछुट्टीकादिनमानकरव्यतीतकरतेहैं,लेकिनउनकीएकगलतीसेदेशकीसत्तागलतहाथतकभीपहुंचसकतीहै,लेकिनसहीसरकारचुननेकेलिएसभीकोवोटदेनाचाहिए।

सुरेंद्रमदान,व्यापारी