रक्तदान से बड़ा कोई दान नहीं : गोलन

संवादसहयोगी,पूंडरी:सिखफाउंडेशनकीतरफसेछोटेसाहिबजादेजोरावरऔरफतेहसिंहकीयादमेंजश्नपैलेसमेंरक्तदानशिविरआयोजितकियागया।इसशिविरमेंपर्यटननिगमकेचेयरमैनऔरविधायकरणधीरसिंहगोलनमुख्यातिथिरहे।गोलननेकहाकि

रक्तदानमहादानहै,इससेबड़ाकोईदाननहींहै।इससेहमेमानवताकीसेवाकरनेकाअवसरप्राप्तहोताहै।अभीतकविज्ञानद्वारारक्तकाकोईविकल्पनहींखोजाजासकाहै।इसलिएहमसबकोमिलकररक्तदानकरनाचाहिए।क्योंकिकेवलमानवकारक्तहीकिसीजरूरतमंदव्यक्तिकोचढ़ायाजासकताहै।दुर्घटनाकाशिकारहुएव्यक्तिकाअधिकरक्तबहनाउसकीमोतकाकारणहोसकताहै।उससमयमेंकेवलमानवकारक्तहीउसजरूरतमंदव्यक्तिकोनयाजीवनदानदेसकताहै।उन्होंनेकहाकिरक्तदानसिर्फउसदुर्घटनाग्रस्तव्यक्तिकीमददहीनहींकरताहैबल्किसमाजकेप्रतिएकजिम्मेदारनागरिकहोनेकाएहसासभीदिलाताहै।रक्तदानकरनेसेहमेंएकनयाजोशप्राप्तहोताहै।इससेजीवनमेंस्फूर्तिआतीहै।मनअच्छेविचारोंकोजन्मदेताहै।इसमौकेपरगुलाबसिंहचीमा,संजीवसिंहगामड़ी,मुखत्यारसिंह,निशानसिंह,गुलाबसिंहविर्क,बलविद्र,विरेंद्रसिंह,बलजीत,राजीव,सोनी,मनदीपसिंह,कुलवंतसिंहमौजूदरहे।

शिविरमेंएकत्रितहुआ150यूनिटरक्त

संवादसहयोगी,पाई:सर्वमंगलमकामनाट्रस्टकीओरसेगांवकरोड़ामेंसमाजसेवीकृष्णकुमारकीयादमें10वांरक्तदानशिविरआयोजितकियागया।शिविरकाशुभारंभमंदिरकमेटीकेप्रधानसत्यवाननेदीपप्रज्वलितकरकेकिया।शिविरमेंकरोड़ाकेसरपंचबलजीतसिंहनेमुख्यातिथिकेरुपमेंशिरकतकी।सरंपचबलजीतसिंहनेट्रस्टकेकार्योंकीप्रशंसाकी।विशेषअतिथिकेरूपमेंपहुंचेमास्टरगूगनवसत्यवानढुलनेरक्तदानकियावरक्तदाताओंकोमेडलपहनकरसम्मानितकिया।शिविरमें150यूनिटरक्तएकत्रितहुआ।इसमौकेपरट्रस्टसंचालकनरेशकुमार,श्यामलालआर्य,डा.जोगेंद्र,महावीर,डीसी,मास्टरसतीश,कृष्ण,मंजीत,योगेश,जितेंद्र,सतबीरबनवाला,मास्टरसुरेंद्रमौजूदरहे।