राजस्थान के 90 वर्षीय किसान की दरियादिली को सलाम: उनके एक फैसले से बचेंगी कई जिंदगियां, लोग बोले-असली हीरो

राजस्थानकेसीकरजिलेसेएकशख्सनेगजबदरियादिलीदिखाईहै।90वर्षीयबुजुर्गकिसाननेसरकारीअस्पतालबननेकेलिएकमपड़नेपरअपनी4बीघाभूमिदानदेदी।पूरेजिलेमेंउनकीजिंदादिलीकोलोगसलामकररहेहैं।

राजस्थानकेसीकरजिलेकेखंडेलाकेरहनेवाले90वर्षीयबजुर्गनेग्रामीणोंकेस्वास्थ्यकेलिएअनूठीमिसालपेशकीहै।सूरजसिंहधायलनेस्वास्थ्यकेंद्रकीक्रमोन्नतिकेलिएजमीननहींमिलनेपरअपनीचारबीघाजमीनअस्पतालकेनामकरदी।बेटेविजयपालकीस्मृतिमेंजमीनकेकागजरविवारकोस्थानीयविधायकमहादेवसिंहखंडेलाकीमौजूदगीमेंबीसीएमएचओडॉ.नरेशपारीककोसौंपेगए।जनहितमेंकिएगएसूरजसिंहकेइसदानकीजिलेभरमेंचर्चाहै।

गांवमेंउपस्वास्थ्यकेंद्र1986मेंखुलाथा।तबसेवहक्रमोन्नतनहींहुआथा।हालमेंजब सूरजसिंहकीपुत्रवधुवपंचायतसमितिसदस्यश्रवणीधायलनेविधायककेसामनेअस्पतालकीक्रमोन्नतिकीमांगरखीतोमांगतोबजटमेंपूरीहोगईलेकिनसरकारीजमीनकीकमीबड़ीसमस्याबनगई।ऐसेमेंसूरजसिंहनेअपनीजमीनजनस्वास्थ्यकेलिएदानमेंदेनेकाफैसलाकरलिया।

इससेपहलेभीसूरजसिंहधायलसरकारीस्कूलकेलिएजमीनदानकरचुकेहैं।कोटड़ीधायलानकीसरकारीस्कूलमेंजमीनकीकमीहोनेपरदोसालपहलेउन्होंनेएकबीघाजमीनबच्चोंकेखेलमैदानकेलिएव900वर्गफीटजमीनस्कूलकेकमरोंकेलिएदानकीथी।

सूरजसिंहधायलनेअस्पतालकोजमीनबेटेविजयपालकीस्मृतिमेंदीहै।विजयपालकी1982मेंएकहादसेमेंमौतहोगईथी।जिनकेनामकोअमरकरनेकेलिएसूरजसिंहनेयेअनूठीपहलकीहै।बतादेंकिसूरजसिंहगांवकेसरपंच,उपप्रधानवजिलापरिषदसदस्यभीहैं।