प्रकाश पर्व पर हरिजस कीर्तन सुनकर साध संगत हुए निहाल

जागरणसंवाददाता,मीरजापुर:रतनगंजस्थितगुरुद्वारामेंश्रीगुरुगोविदसिंहमहाराजका354वांप्रकाशपर्वबुधवारकोबड़ेधूमधामसेमनायागया।ज्ञानीकुलविदरसिंहद्वाराहरिजसकीर्तनगायनकरसाधसंगतकोनिहालकिया।इसकेबादगुरुमर्यादाकेअनुसारसरोपाभेंटकियागया।कार्यक्रमकेअंतमेंगुरुजीकाअटूटलंगरबांटागया,इसमेंलोगोंनेश्रद्धाभावसेप्रसादग्रहणकिया।

कार्यक्रमकेदौरानसुबह8.30अखंडपाठसाहेबकीसमाप्तिकेबादज्ञानीकुलविदरसिंहहजुरीजत्थामीरजापुरकेतरफसेहरिजसकीर्तनसुबह11.30बजेसेदोपहर10बजेतकबच्चोंद्वारादरबारहुआ।प्रधानजसबीरसिंहचड्योगनेगुरुजीकेजीवनपरप्रकाशडाला।बतायाकिगुरुजीकाजन्मपटनाशहरमेंपांचजनवरी1666कोहुआथा।सिक्खकेदसवेंगुरुथे।गुरुतेगबहादुरइनकेपिताथे।शहादतकेबाद11नवंबर1675कोवेगुरुगद्दीपरविराजमानहुए।सन1699मेंगुरुजीनेखालसापथकीस्थापनाकी।गुरुजीनेधर्मवदेशकीरक्षाकेलिएअपनेमाता-पितावचारोंपुत्रोंकोबलिदानकेलिएप्रेरितकिया।गुरुजीनेपरमात्माकीभक्तिकेलिएप्रेमकामार्गअपनानेकीप्रेरणादी।गुरुजीकेजीवनपरधार्मिकमंत्रीभूपेंद्रसिंहडंगनेप्रकाशडाला।संचालनप्रबंधकहरदीपसिंहखुरानावखजांचीहरभजनसिंहसरनानेकिया।धर्मपालसिंहसरना,चरणजीतसिंहसोखी,जसवंतसिंह,परविदरसिंह,जगजीतसिंहडंग,बलविदरसिंहसरना,करमजीतसिंहसरना,अमरीकसिंहमोंगा,महेंद्रसिंहचड्योक,राजेंद्रसिंहचड्ढा,अमरदीपसिंहचड्ढा,बलवीरसिंहसरनाआदिरहे।