पंजाब सरकार को नशे में धुत सरकारी कर्मचारियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए

पंजाबसरकारएकतरफतोप्रदेशसेनशेकोखत्मकरनेकेलिएबड़े-बड़ेदावेकररहीहै,वहींदूसरीतरफसरकारकीनाककेनीचेउसकेखुदकेकर्मचारीअपनीहरकतोंसेसरकारकेप्रयासोंपरपलीतालगातेनजरआरहेहैं।गतदिवसऐसाहीएकमामलामोगामेंसामनेआया,जहांपंजाबस्कूलएजुकेशनबोर्डकामैनेजरवमोगाकाडिप्टीमैनेजरदफ्तरमेंहीशराबपीतेपकड़ेगए।इससेपहलेभीकईमामलेसामनेआचुकेहैं,जिनमेंसरकारीदफ्तरमेंशराबपीतेहुएकर्मचारी,अधिकारीपकड़ेगएहैं।पंजाबपुलिसकेकर्मचारीतोआएदिनकहींनकहींड्यूटीकेदौरानभीनशेमेंधुतपाएजातेहैं।यहनिस्संदेहचिंताजनकस्थितिहै।यहबातकिसीसेछिपीनहींहैकिपंजाबकिसकदरनशेकीदलदलमेंधंसाहुआहै।प्रदेशकोइससेबाहरनिकालनेकेलिएविभिन्नस्तरपरप्रयासकिएजारहेहैं।

निश्चितरूपसेप्रदेशसरकारभीइसकेप्रतिगंभीरनजरआरहीहै,क्योंकिविधानसभाचुनावमेंकैप्टनअमरिंदरसिंहनेइसमुद्देकोजोर-शोरसेउठायाथा।यहबातऔरहैकिइसकेलिएसख्तीकेसाथहीसरकारऔरउसकेअधीनकर्मचारियोंकोआदर्शभीप्रस्तुतकरनाहोगा।जबसरकारीकर्मचारीस्वयंनशेमेंधुतपड़ेमिलेंगेतोआमजनताकोकैसेसमझाएंगेऔररोकेंगे?मोगाकेमामलेमेंतोस्थितिऔरगंभीरहै,क्योंकिपीएसईबीकेजिसमैनेजरकोगतदिवसमोगाक्षेत्रीयकार्यालयमेंनशेमेंधुतदेखागयावहयहांस्टेशनरीकीजांचकरनेआयाथा।इसघटनासेस्पष्टहैकिउसनेकिसतरहकीजांचकीहोगी।शिक्षाविभागमेंकिसीभीस्तरपरकिसीकाभीऐसाआचरणकतईस्वीकार्यनहींहै।प्रदेशसरकारकोइसेगंभीरतासेलेकरऐसेचरित्रवालेकर्मचारियों,अधिकारियोंकेखिलाफकड़ीकार्रवाईकरनीचाहिए।साथहीऐसेनियम-कानूनसख्तकरनेचाहिए,जिससेसरकारीमुलाजिमोंकोऐसेआचरणसेरोकाजासके।ऐसाकरकेहीसरकारआमजनताकोअपनीकथनीऔरकरनीकेप्रतिभरोसादिलासकतीहै।

[स्थानीयसंपादकीय:पंजाब ]