पौधा रोपण करने से ही सुधरेगा पर्यावरण : अनिल कुमार

संस,गुहला-चीका:कोरोनामहामारीकेसमयमेंआजप्रत्येकव्यक्तिकोरोगप्रतिरोधकक्षमताबढ़ानेकीआवश्यकताहै।मनुष्यकीरोगप्रतिरोधकक्षमताबढ़ानेकेलिएजड़ीबूटियोंवालेपौधेआवला,तुलसी,जामुन,गिलोयकामहत्वपूर्णस्थानरहाहै।आधुनिकताकीहोड़मेंआजहमअपनेआस-पासपेड़लगानाहीभूलगएहैं।आनेवालीपीढि़योंकोरोगप्रतिरोधकक्षमताबढ़ानेकेलिएवातावरणकोशुद्धकरनेकेलिएराहगीरोंकोछायाप्रदानकरनेकेलिएभारतीयरेडक्राससोसाइटीकेगुहलाब्लॉकको-आडिनेटरडा.अनिलकुमारवउनकीटीमनेफलदारछायादारऔषधिवालेपौधोंकोधार्मिककेन्द्रोंसतीमातामंदिर,बाबाकेसरगीरी,पीरबाबा,भगवानपरशुराममंदिर,सॉरीपुरीमंदिरइत्यादिधार्मिकस्थानोंपरविभिन्नप्रकारकेपौधारोपणकिएहैं।इसप्रकारकेपौधारोपणसेनईपीढ़योंकोफलऔषधिवछायाकालाभप्राप्तहोगाऔरवातावरणभीशुद्धहोगा।

इसअवसरपरसोहनलालशर्मा,देवराजशास्त्री,सतपालशर्मा,प्रवीणशर्मा,पंडितबलदेव,सुनीलदत्त,श्यामसिंह,सतीशकुमार,मनदीपसिंह,बलजीतसिंह,दिलबागसिंह,सतीशकुमार,नवीनकुमारमौजूदथे।