पानी और खाना देकर प्रवासियों की हो रही रेलवे स्टेशन से विदाई, 'खाना चाहिए मिशन' कर रहा है मदद

मुंबईःरेलवेकेमाध्यमसेलाखोंप्रवासीलगातारमुंबईसेअपनेगांवजारहेहैं,जिसकाइंतजामसरकारकररहीहै.वहीं,सरकारकेसाथ-साथकुछसमाजसेवीसंस्थाभीइसकाममें जुटीहुईहैं.येसमाजसेवीसंगठनइनप्रवासियोंकोइनकेसफरकेदौरानपीनेकापानीऔरखानेकासामानदेकरविदाकररहीहैं.

प्रवासीमजदूरकीभीड़मेंकोईअपनीबूढ़ीमांकोकंधेपरलादेहुएहै,तोकोईअपनेबच्चोंकेसाथबड़े-बड़ेबैगथामेतपतीधूपमेंस्टेशनपरमौजूदहै.सभीअपनेगांवजानेकीजद्दोजहदमेंजुटाहै.वहींलोकमान्यतिलकटर्मिनसस्टेशनपरबहुतसारेऐसेसमाजसेवीभीमौजूदहैं,जोलोगोंकोपीनेकापानीऔरखानेकेपैकेटभीबांटरहेहैं.

स्टेशनपरजिनयात्रियोंकानंबरआताहैऔरवहअपनीट्रेनोंमेंबैठनेकेलिएआगेबढ़तेहैंऔरबाकिकतारमेंलगेरहतेहैं.ऐसेमजदूरोंकोसमाजसेवीपीनेकापानीऔरखानेकासामानदेकरउनकोविदाकररहेहैं.ऐसेसमाजसेवियोंकायहकामलगातारजारीहै.

एकसमाजसेवीनिधिगोयलकाकहनाहैकिजबसेश्रमिकट्रेनकीशुरुआतहुईहै,तबसेतकरीबन3लाखयात्रियोंकोपानीऔरखानेकापैकेटदेकरमुंबईकेरेलवेस्टेशनोंसेविदाकरचुकीहैं.निधिगोयलकेमुताबिकमुंबईकेसीएसटीएलटीटीऔरबांद्राटर्मिनसस्टेशनकोअडॉप्टकियागयाहैऔरयहांसेरोजाना40से45ट्रेनेंजारहीहैं.हमकरीब80हजारयात्रियोंकोरोजखानाऔरपीनेकापानीदेरहेहैं.

निधिबतातीहैंकिजबउन्हेंखबरोंकेमाध्यमसेपताचलाकिजोश्रमिकट्रेनेंजारहीहैंऔरउससेजोप्रवासीजारहेहैंउन्हेंखानेऔरपीनेकेपानीकीदिक्कतहोरहीहै.ऐसीस्थितिमेंकुछयात्रियोंकीरास्तेमेंहीमौतभीहोचुकीहै.तबउन्होंनेमुंबईमहानगरपालिकासेबातकीऔरश्रमिकट्रेनोंसेजानेवालेप्रवासियोंकीमददकेलिएवहस्टेशनपरउतरआईं.

निधिकेमुताबिककरीब1लाखयात्रियोंकोरोजखानाखिलानेकीइसमुहिमकानामउन्होंने'खानाचाहिएमिशन'रखाहै.जिसमेंउनकेपरिवारकेलालाभगवानदासट्रस्टकेसाथ-साथकुछकंपनियोंजैसेविप्रो,गोदरेजऔरहिंदुस्तानलीवरकीतरफसेभीअबमददमिलरहीहै.