नहीं आएगी दुर्गध, तालाबों का पानी होगा शुद्ध

सीतापुर:शहरोंमेंबहतेनालों,नदियोंवतालाबोंमेंगंदावदुर्गधयुक्तपानीनहींरहेगा।अबइनमेंसाफसुथराआक्सीजनयुक्तपानीहोगा,जिसमेंनतोदुर्गंधआएगीऔरनपानीमेंकचराहीरहेगा।इसकेलिएअपरनिदेशकक्षेत्रीयनगरएवंपर्यावरणअध्ययनकेंद्रनेपानीकोशुद्धकरनेकेलिएप्लानतैयारकियाहै।जिलेकीछहनगरनिकायोंकेनालोंवतालाबोंकेपानीकोशुद्धकरनेमेंबायो-फाइटोरेमेडिएशन(जैविक-पादपउपचार)तकनीककाप्रयोगकियाजाएगा।इसतकनीकसेतालाबोंवनालोंकापानीशुद्धतोहोगाहीसाथहीपानीमेंआक्सीजनकीमात्राभीबढ़ेगी।

डीपीएमपर्यावरणअध्ययनकेंद्रसंजीतयादवनेबतायाकिबायो-फाइटोरेमेडिएशनतकनीकअपनानेकेलिएसिधौलीकेतालाबकाप्रस्तावस्वीकृतहोचुकाहै।खैराबाद,लहरपुर,हरगांव,महमूदाबादकेप्रस्तावकीस्वीकृतिमिलजाएगी।स्वीकृतिमिलतेहीकार्यभीशुरूहोजाएगा।

इननिकायोंमेंअपनाईजाएगीबायो-फाइटोरेमेडिएशनतकनीक:

नालोंवतालाबोंकेपानीकोशुद्धकरनेकेलिएनगरपालिकासीतापुर,महमूदाबाद,लहरपुरवखैराबादएवंनगरपंचायतहरगांववसिधौलीमेंबायो-फाइटोरेमेडिएशनतकनीककाप्रयोगकियाजाएगा।जिसकाखर्चापालिकावहनकरेगी।

इनस्थानोंपरहोगाइस्तेमाल:

-नगरपंचायतसिधौली-खेटवातालाब।

-नगरपंचायतहरगांव-दुबेकातालाब।

-नगरपालिकापरिषदमहमूदाबादकाबेहटीतालाब।

-नगरपालिकापरिषदलहरपुर-मुसमनियातालाब।

-नगरपालिकापरिषदखैराबाद-कुड़ियातालाब।

-नगरपालिकापरिषदसीतापुर-ऊंचाटीलानाला।यहहोंगेकाम:

बायो-फाइटोरेमेडिएशनतकनीकमेंप्राकृतिकतरीकोंसेपानीकोशुद्धकियाजाताहै।आवश्यकतापड़नेपरट्रीटमेंटप्लांटभीलगायाजासकताहै।इसतकनीककेतहतनालोंवतालाबोंमेंफिल्टरलगायाजाएगा।साथहीकिनारेऐसेपौधेलगाएजाएंगे,जोकिपानीमेंआक्सीजनकीमात्राकोबढ़ाएंगे।हानिकारकतत्वोंकोअवशोधितकरेंगे।