मुंशी प्रेमचंद की रचनाएं आज भी प्रासंगिक

जागरणसंवाददाता,गाजीपुर:नगरसहितग्रामीणक्षेत्रोंमेंशनिवारकोकथासम्राटमुंशीप्रेमचंदकीजयंतीमनाईगई।उनकेचित्रपरमाल्यार्पणकरश्रद्धांजलिअर्पितकीगई।वर्चुअलविचारगोष्ठीमेंवक्ताओंनेकहाकिउनकीरचनाएंआजभीप्रासंगिकहैं।

राजकीयमहिलास्नातकोत्तरमहाविद्यालयमेंहिदीविभागकीओरसेप्रेमचंदजयंतीसमारोहपरडा.निरंजनकुमारयादवनेकहाकिवहहिदीकेबहुपठितलेखकहैं।हिदीकाहरपाठकउनकेलेखनपरमंत्रमुग्धहोजाताहै।वहसिर्फहिदीकेहीनहीं,भारतीयसाहित्यकेभीमहत्वपूर्णलेखकहैं।प्रेमचंदऔरउनकालेखनअपनेसमयमेंभीप्रासंगिकथाऔरआजकेसमयमेंभीहै।डा.संगीतानेकहाकिस्त्री,दलितऔरकिसानजीवनसेजुड़ेमुद्देजबतकबनेरहेंगे,तबतकप्रेमचंदकीप्रासंगिकताबनीरहेगी।लखनऊविश्वविद्यालयकेप्रोफेसररविकांत,प्राचार्यडा.सविताभारद्वाज,डा.शिवकुमार,डा.संतनकुमारराम,डा.सारिकासिंह,डा.उमाशंकरआदिथे।संचालनडा.निरंजनकुमारयादवनेकिया।

हमेशायादकिएजाएंगेमुंशीप्रेमचंद

सत्यदेवडिग्रीकालेजगाधिपुरम(बोरसिया)फदनपुरमेंआयोजितकार्यक्रममेंनिदेशकअमितसिंहरघुवंशीनेमुंशीप्रेमचंदकेजीवनपरप्रकाशडालतेहुएकहाकिवहव्यक्तिनहींथे,बल्किएकसोचऔरविचारथेजोशाश्वतरहेंगे।

समाजमेंजब-जबसामाजिकविसंगतियोंपरचर्चाहोगी,तबउन्हेंयादकियाजाएगा।प्राचार्यडा.सुनीलकुमारसिंह,दिनेशसिंहआदिथे।जयंतीपरवर्चुअलविचारगोष्ठी

दिलदारनगर:मुंशीप्रेमचंद्रकीजयंतीपरकविजनार्दनज्वालाकेनिवासपरवर्चुअलविचारगोष्ठीमेंपत्रकारवलेखकरामअवतारशर्मानेकहाकिदुनियाकेमहानरचनाकारोंमेंमुंशीप्रेमचंद्रकानामशुमारहै।जबतकसाहित्यसंसाररहेगातबतकउनकीरचनाएंप्रासंगिकरहेंगी।कविजनार्दनज्वालानेकहाकिमुंशीप्रेमचंदकीरचनागोदान,गबनकेअलावाउनकीकहानियोंनेआमआदमीकोबहुतप्रभावितकिया।शायरखुर्शीदखांउनकोदुनियाकाएकबड़ारचनाकारबताया।सुरेंद्रपांडे,वेदप्रकाशश्रीवास्तव,आदिथे।अध्यक्षतारामबचनवसंचालनकुमारप्रवीणनेकिया।

अंतिमदिनोंतकसाहित्यसृजनमेंलगेरहेमुंशीप्रेमचंद

खानपुर:क्षेत्रकेशिक्षणसंस्थानोंसहितसाहित्यप्रेमियोंनेकथासम्राटमुंशीप्रेमचंद्रकीजयंतीमनाई।सिधौनास्थितरामलीलाभवनमेंसाहित्यकारडा.रामजीबागीनेकहाकिप्रेमचंद्रनेग्रामीणपरिवेशकीपृष्ठभूमिपरअपनीधारदारलेखनीसेजनजागृतिएवंलोकपरंपराओंपरअपनीलेखनीकागहराअसरछोड़ाहै।रामकृतसिंह,सुब्बायादव,तारकेश्वरमिश्रा,सरकारमिश्र,रामपालसिंह,रामबरतसिंह,शर्माप्रसादआदिथे।