मेरा पहला वोट : अभियान

मैंभीइसबारवोटकरसकूंगा,यहसोचकरहीमनरोमांचितहोउठताहै।पहलेलोकतंत्रकेमहापर्वचुनावपरजबघरकेसभीसदस्यमतदानकरनेजातेथे,तोमेरामनभीमतदानकरनेकोकरताथा।लेकिन,उम्रकेबंधनकरमेरीयहइच्छापूरीनहींहोपातीथी।मैट्रिकपरीक्षापासकरनेकेबादचुनावकेसमयसेहीमैंचुनावीचर्चामेंभागलेतारहाहूं।देशऔरराज्यकीचुनावीगतिविधिपरमैंअपनीरायदोस्तोंकेबीचरखताथा।इसबारमुझेमतदानकाअधिकारमिलाहै।जेबमेंमतदातापहचानपत्ररखनेपरजोगर्वकीअनुभूतिहोतीहै,उसेशब्दोंमेंबयांकरनामुश्किलहै।मैंइसबारमतदानकरनेजाऊंगा,तोनिश्चितरूपसेदेशऔरप्रदेशकेविकासकाएजेंडामेरेमनमेंहोगा।मैंविकासकेनामपरवोटकरूंगा।मैंअपनेसभीसाथियोंसेभीअपीलकरूंगाकिवेजात,पातधर्मकीसंकीर्णतासेउपरउठकरविकासकेमुद्देपरमतदानकरें।तभीहमारालोकतंत्रमजबूतहोगा।

आदित्यशर्मा,गुलजारपोखरमुंगेर