कोयलांचल की राजनीति में सक्रिय मासस ने पूरे किए 50 वर्ष, तब बंगाल और उत्तर बिहार के लोगों ने रखी थी पार्टी की नींव

दिलीपसिन्हा,धनबाद:कईदशकतककोयलांचलकीसशक्तराजनीतिकपार्टीरहीमार्क्सवादीसमन्वयसमिति(मासस)ने50वर्षपूरेकरलियेहैं।पार्टीअपना50वांस्थापनादिवससिंदरीमें22व23अप्रैलकोमनाएगी।शुक्रवारकोजहांखुलाअधिवेशनहोगा,वहींशनिवारकोबंदकमरेमेंनेतृत्वकैडरोंसंगमंथनकरेगा।

सिंदरीवहीजगहहै,जहांसेइसपार्टीकेसंस्थापकवप्रसिद्धमार्क्सवादीचिंतकएकेरायनेअपनाराजनीतिकसफरशुरूकियाथा।आमतौरपरलोगमाससकोकोयलांचलकीराजनीतिकपार्टीकेतौरपरजानतेहैं।झारखंडआंदोलनएवंझामुमोकेगठनमेंभीइसराजनीतिकपार्टीकाबड़ायोगदानरहाहै।आपकोयहजानकरआश्चर्यहोगाकिमाससकीस्थापनाबिहारकेपटनाकेहार्डिंगपार्कस्थितविधायकआवाससौनंबरमेंहुईथी।यहआवाससिंदरीकेतत्कालीनविधायकएकेरायकाथा।एकेरायसमेतसातदिग्गजवामपंथीनेताओंनेमाससकागठनकियाथा।इनसातोंमेंसेकोईभीझारखंडयाउसवक्तकेदक्षिणबिहारकानहींथा।एकेरायखुदबांग्लादेशसेआएथे।एसकेबक्सीबंगालमूलकेथे,जबकिइसकेपहलेअध्यक्षउमाशंकरशुक्लसमेतबाकीचारोंनेताउत्तरएवंमध्यबिहारकेथे।माससकासंगठनलंबेसमयतकउत्तरएवंमध्यबिहारमेंरहा।बादमेंयहपार्टीधनबादमेंसिमटकररहगई।

आज50सालकेबादस्थितियहहैकिपार्टीकेअंदरइसबातपरमंथनचलरहाहैकिएकेरायकीइसपार्टीकोचलायाजाएयाफिरइसकावामपंथीपार्टीभाकपामालेमेंविलयकरदियाजाए।50सालकेसफरमेंपार्टीकहांतकपहुंचीऔरइसेआगेकैसेलेजायाजाए,स्वर्णजयंतीस्थापनासमारोहमेंइसपरगहनमंथनहोगा।

माससकेमौजूदाकेंद्रीयअध्यक्षवचारबारसिंदरीकेविधायकरहेआनंदमहतोनेदैनिकजागरणकोबतायाकिपटनाकेविधायकफ्लैटमें22अप्रैल1972कोएकेराय,एसकेबक्सीकेअलावाबिहारकेचंपारणनिवासीविधायकउमाशंकरशुक्ल,बेगूसरायसरायकेसूर्यदेवसिंह,भागलपुरनवगछियाकेपांचकौड़ीसाधू,मुंगेरशेखपुराकेबिंदेश्वरीसिंहएवंपटनादानापुरकेशफीरहीमनेमाससकागठनकियाथा।इसकेसंयोजकएकेरायबनेथे।इसकेबाद1974मेंपटनामेंहीमाससकापहलासम्मेलनहुआथा।उमाशंकरशुक्लइसकेपहलेअध्यक्षएवंएकेरायसचिवबनेथे।जीवनकेअंतिमसमयतकउमाशंकरशुक्लमाससकेअध्यक्षपदपरथे।आनंदमहतोनेबतायाकिवहमाससकीराज्यकमेटीमेंपहलीबार1974मेंशामिलहुएथे।आनंदमहतोनेबतायाकिचंपारण,कटिहार,बेगूसराय,शेखपुरामेंमाससकामजबूतसंगठनथा।माससकीसहयोगीसंगठनकिसानसंग्रामसमितिकापहलासम्मेलनशेखपुरामेंहुआथा।इसकेअध्यक्षउमाशंकरशुक्लएवंसचिवआनंदमहतोचुनेगएथे।