कोसी में उतरा लाल पानी

जागरणसंवाददाता,खगड़िया:कोसीमेंलालपानी(नयापानी)उतरचुकाहै।कोसीनेपालसेनिकलतीहैऔरवहांकीतराईक्षेत्रहोकरसुपौलजिलेमेंबिहारमेंप्रवेशकरतीहै।शुरुआतीबारिशमेंतराईक्षेत्रकीगेरुआ-लालमिट्टीकोसाथलेकरयहआतीहै,जिससेपानीकारंगलाल-मटमेलादिखताहै।इसलिएइसपानीकोलोगलालपानीकहतेहैं।10दिनोंपहलेउतरालालपानी

अमूमनजूनकेप्रथमसप्ताहमेंकोसीमेंलालपानीअर्थातललपनियाआताहै।लेकिनइसवर्ष10दिनपहलेलालपानीआयाहै।इससेकोसीकिनारेकेलोगोंकेमाथेपरबलपड़गएहैं।चिताकीलकीरेंगहरागईहै।इतमादीमुखियाहिटलरशर्माकहतेहैं-10दिनोंपहलेकोसीमेंलालपानीकाआनासहीसंकेतनहींहै।अबकोसीमैय्याजोकरे।मालूमहोकिइतमादीपंचायतअंतर्गतगांधीनगरजिलेकासर्वाधिकबाढ़-कटावप्रभावितइलाकाहै।यहचोढ़लीबारुणबांधकेआठ-नौकिलोमीटरकेसामनेअवस्थितहै।यहांबीतेवर्षकोसीनेजमकरप्रलयमचाईथी।पुरानाविद्यालयभवनतककोसीमेंविलीनहोगयाथा।यहांतीनदिनोंपहलेबाढ़पूर्वकटावनिरोधककार्यशुरूहुआहै।नदीमेंदिखरहाकरंट

गांधीनगरसाइटपरकैंपकररहेकनीयअभियंतामणिकांतपटेलनेकहाकिकोसीमेंलालपानीउतरचुकाहै।नदीमेंकरंटदिखरहाहै।60-70सेमीपानीबढ़ाहै।अबपानीमेंउतार-चढ़ावकाक्रमशुरूहोगयाहै।गांधीनगरमेंयुद्धस्तरपर380मीटरमेंकटावनिरोधीकार्यजारीहै।

कोसीमेंलालपानीउतरनेकीसूचनाहै।कोसीपरबनेबांध-तटबंधोंपरचलेरहेकटावनिरोधककार्यकईजगहोंपरसंपन्नहोगयाहै।कईजगहोंपरलगभगपूर्णहोनेकीस्थितिमेंहै।

गणेशप्रसादसिंह,कार्यपालकअभियंता,बाढ़नियंत्रणप्रमंडल-दो,खगड़िया।