किसानों ने काले झंडे फहराए, कृषि कानून की प्रतियां जलाईं

जेएनएन,बिजनौर।गाजीपुरबार्डरपरकिसानआंदोलनकेछहमाहहोचुकेहैं,लेकिनआजतककिसानोंकीसमस्याओंकाहलनहींनिकला।इसकेविरोधमेंकिसानसंयुक्तमोर्चावभारतीयकिसानयूनियनकेआह्वानपरबुधवारकोकिसानोंनेअपनेघरोंवचौराहोंपरकालेझंडेफहराकरविरोधप्रदर्शनकिया।

उन्होंनेकालेकानूनकीप्रतियांभीजलाई।इसदौरानभाकियूब्लाकअध्यक्षदुष्यंतराणा,चौधरीकविराजसिंह,अजयपालसिंह,यशपालसिंह,दलवीरसिंह,सुरेंद्रसिंह,सोनूचौधरीआदिशामिलरहे।

वहींकिसाननेताआदित्यसिंहनेभीकालीपट्टीबांधकरविरोधजताया।उन्होंनेकहाकिकेंद्रसरकारजनताविरोधीफैसलेलेरहीहै।यहसरकारकिसानों,मजदूरों,गरीबों,दलितों,महिलाओं,आदिवासियों,छात्रों,युवाओं,छोटेव्यापारियोंकीउपेक्षाकररहीहै।

संवादसहयोगी,चांदपुर:दिल्लीमेंचलेरहेभाकियूकेआंदोलनकोछहमाहबीतनेकोलेकरकिसानोंनेइसेकालादिवसकेरूपमेंमनाया।क्षेत्रमेंभाकियूकार्यकर्ताओंनेकालेझंडेदिखाकरप्रदर्शनकिया।उन्होंनेसरकारकेखिलाफनारेबाजीकी।

बुधवारकोकिसानोंनेनारनौर,दतियाना,खानपुर,बेगमपुर,रावटी,बागड़पुर,अज्जुनंगली,रौनिया,अकबरपुर,अहरौला,कौशल्या,वाजिदपुर,रूपपुर,दरबाड़ा,सराय,तालपुर,हिलालपुर,रुस्तमपुर,हिरनाखेड़ी,ककरालाआदिगांवोंमेंसरकारकेखिलाफप्रदर्शनकिया।किसानोंनेसरकारपरकिसानोंकीअनदेखीकरनेकाआरोपलगाया।इसअवसरपरलुधियानसिंह,रामपालसिंह,शीशपालसिंह,रोहिताशसिंह,मुखियारामफलसिंह,वरुणगुर्जर,कैलाश,वेदपालसिंह,प्रमोदकुमारआदिशामिलरहे।उधर,जलीलपुरमेंदर्जनोंकिसानहाथोंमेंकालेझंडेलेकरब्लाकचौराहेपरएकत्रहुए।वहांकालेझंडेदिखाकरकृषिकानूनकोवापसलेनेकीमांगकी।उस्मानखान,हुकुमसिंह,कुलदीपसिंह,मेजरसिंह,सुखासिंह,मिल्खासिंहवरंजीतसिंहआदिकिसानमौजूदरहे।