खूंखार और खतरनाक था डाकू गब्बर सिंह, कुल देवी को खुश करने के लिए काट देता था नाक

डाकूगब्बरसिंहबॉलीवुडफिल्मशोलेकायेवोकिरदारहैजोआजभीजीवंतहै।गब्बरसिंहकोशायदहमफिल्मशोलेकीवजहसेहीजानतेहैंलेकिनसच्चाईइससेअलगहै।गब्बरसिंहकोईफिल्मीडाकूनहींबल्किएकअसलीडाकूथा।इसकीदहशतचंबलमेंकरीबएकदशकतकरहीथी।एकवक्तथाजबगब्बरसिंहपुलिसकेलिएसबसेबड़ासिरदर्दबनगयाथा।

गबराकेगब्बरबननेकीकहानी

कुख्यातडाकूगब्बरसिंहकाजन्म1926मेंभिंडजिलेकेडांगगांवमेंहुआथा।गब्बरसिंहकोलोगपहलेगबराकेनामसेजानतेथे।एकवक्तताजबगबरागांवकाएकसाधारणयुवकहुआकरताथालेकिनबादमेंउसनेबीहड़कीतरफरुखकिया।गबराने1955मेंअपनाघरऔरगांवछोड़दियाथाऔरडाकूकल्याणसिंहगुर्जरकेगैंगमेंशामिलहोगयाथा।यहींसेशुरूहुईथीगबराकेगब्बरबननेकीकहानी।

गब्बरनेबनायागिरोह

गब्बरसिंहनेगैंगमेंशामिलहोनेकेबादकईवारदातोंकोअंजामदिया।कल्याणसिंहकासाथगब्बरकोअधिकदिनोंतकनहींभाया।कुछवक्तबादहीगब्बरसिंहनेअपनाअलगगिरोहबनालियाऔरचंबलकीघाटियोंमेंअपनीधाकजमाली।

गब्बरकाआतंक

50केदशकमेंगब्बरकानामआतंककापर्यायबनताजारहाथा।लोगउसकेनामसेखौफखातेथे।पुलिसमहकमाभीउसकीहरकतोंसेपरेशानथा।भिंड,ग्वालियर,इटावा,ढोलपुरमेंगब्बरकाखौफइसकदरथाकिलोगउसकेबारमेंबाततकनहींकरतेथे।

काटदेताथानाक

एकबारकिसीतांत्रिकनेडाकूगब्बरसिंहसेकहाकिअगरवहअपनीकुलदेवीको116लोगोंकीकटीहुईनाककानचढ़ाएगातोपुलिसयाकोईऔरउसकाकुछनहींबिगाड़पाएगी।इसकेबादतोगब्बरसिंहकोमानोनाककाटनेकीधुनसवारहोगई।गब्बरसिंहनेसैंकड़ोंलोगोंकीनाककाटीजिसमेंअधिकतरपुलिसवालेशामिलथे।

सबसेबड़ाडाकू,सबसेबड़ाइनाम

गब्बरआतंककादूसरानामबनगयाथा।पुलिसतमामकोशिशोंकेबादभीउसपरलगामनहींलगापारहीथी।उत्तरप्रदेशऔरमध्यप्रदेशसमेततीनराज्योंकीपुलिसउसेतलाशरहीथी।पुलिसकेहाथखालीथेऔरगब्बरखूंखारहोताजारहाथा।आखिरकारपुलिसनेडाकूगब्बरसिंहपर50हजाररुपयेकानकदइनामरखा।50केदशकमेंयहकिसीभीअपराधीकेसिरपररखागयासबसेबड़ाइनामथा।

गब्बरसिंहपरकिताब

केएफरुस्तमजी50केदशकमेंमध्यप्रदेशपुलिसकेमहानिरीक्षकथे।रुस्तमजीरोजानाडायरीलिखाकरतेथे।डाकूगब्बरसिंहकेकईकिस्सेरुस्तमजीकीडायरीमेंदर्जथे।इन्हींकिस्सोंकोबादमेंआईपीएसअधिकारीपीवीराजगोपालनेकिताबकीशक्लदी।किताबकानामथा'दब्रिटिश,दबैंडिट्सएंडदबॉर्डरमैन'राजगोपालनेयहकिताबरुस्तमजीकीइजाजतऔरउन्हींकेमार्गदर्शनमेंलिखीथी।