कानपुर के दरिंदे विकास दुबे ने अपराध की दुनिया में कुछ इस तरह जमाया अपना सिक्का

ClicktoExpand&Play

कानपुरएनकाउंटरकेमुख्यआरोपीविकासदुबेकेऊपर60सेअधिकआपराधिकमुकदमेहैं.उसकाइतनादुस्साहसऔरआतंकथाकिउसनेकानपुरकेएकथानेकेअंदरएकदर्जाप्राप्तराज्यमंत्रीकोउसवक्तगोलियोंसेभूनदियाथाजबथानेमें5सबइंस्पेक्टरऔर25सिपाहीमौजूदथे.वेसबउसहत्याकेगवाहथे,लेकिनकिसीनेअदालतमेंगवाहीनहींदी.कहतेहैंकिआजभीकानपुरकीबसोंमें'विकासभैया'शब्दबोलदेनेसेकिरायानहींदेनापड़ता.आइएदेखतेहैंउसकेआतंककीकुछझलकियां:

विकासकेकिसीफैननेबनाएउसकेफेसबुकपेजपरउसे'ब्राह्मणशिरोमणी'घोषितकियागयाहै,जिसपरउसके1000फैन्सउससेजुड़ेहैं.इसफेसबुकपेजपरलगीउसकीतस्वीरोंमेंवहबिल्कुलनेतानजरआताहै.विकासकाजोबिकरुगांवपुलिसवालोंकीहत्याकेलिएआजसुर्खियोंमेंहैं,वहां1990मेंएककत्लहुआथा,जिसमेंउसकानामआयाथा,लेकिनबादमेंरिपोर्टवापसलेलीगई.

शुरूमेंविकासनेचौबेपुरविधानशबाइलाकेकेएकबीजेपीनेताकादामनथामाऔरहनकबनाई.बीजेपीसरकारमेंकानपुरसेएकमंत्रीकाभीवहकाफीकरीबीमानाजाताथा.बादमेंवहबीएसपीनेताओंकाकरीबीहोगया.इसकेचलतेवह15सालअपनेगांवकाप्रधान,5सालजिलापंचायतसदस्यरहा.अबउसकीपत्निजिलापंचायतसदस्यहै.विकासकेराजनीतिकरियरकेबारेमेंउसकीमांनेकहा,'बसपामेंरहे15साल.5सालभाजपामेंरहे.सपामें5सालथे.'यहपूछेजानेपरकिवेकौननेताथेजोइनकोसबसेज्यादामानतेथे?उन्होंनेकहा,'सबनेताचाहतेथे.जिसपार्टीमेंरहतेथे.जिसपार्टीमेंरहेंगे,वहीनेतातोचाहेंगे?'

विकासदुबेनेसन्2000मेंताराचंदइंटरकॉलेजकीजमीनकब्जाकरमार्केटबनानेकेलिएउसकेप्रिंसिपलसिद्धेश्वरपांडेकीहत्याकरदी.इसमेंउसेउम्रकैदहुई,लेकिनजमानतपरबाहरआगया.इसहत्याकेबारेमेंसिद्धेश्वरपांडेकेबेटेराजेंद्रपांडेनेकहा,'उसमेंकरीब4गवाहथे.3गवाहहमारेसाथथेऔरएकहमथे.2-3औरथे.इसकेअलावासरकारीगवाहथे.जोमेरेगवाहथेउनसबपरदबावडालकर...?उसमेंसेएकअशोकवाजपेयीऔरएकअवस्थीजीथे.उन्होंनेबादमेंकहदियाथाकिवोमौकेपरथेहीनहीं.

वहींपूर्वविधायकबी.एन.मिश्रानेकहा,'पांडेजी,जोदेवताकीतरहपूजेथे,कोईभीवहांथानेमेंउनकीपैरवीमेंभीनहींआया.पूराशिवलीबंदहोगयाथा.यहउसकाआतंकथा.यहदबंगईथी.औरउनकीफोटोनहींहुएथे.उनकीलाशपड़ीहुईथीखुलेमैदानमें.'बतादें,विकासदुबेनेसन2001मेंकानपुरकेशिवलीथानेमेंघुसकरबीजेपीसरकारकेदर्जाप्राप्तराज्यमंत्रीसंतोषशुक्लाकोगोलियोंसेभूनडालाथा.

इसहत्याकांडकेबारेमेंसंतोषशुक्लाकेभाईमनोजशुक्लानेकहा,'लगभग25सिपाहीथेऔर5जोहैएसआईथेउससमयथानेकेअंदर,जिससमयघटनाघटीहै.'यहपूछेजानेपरकिवेसबगवाहथेइसमें,मनोजनेकहा,'सबगवाहथेलेकिनबादमेंजबन्यायालयमेंमुकदमाचलातोपुलिसकाएकभीबंदागवाहीदेनेनहींआया.सबहॉस्टिलेहोगया.'इसकेआगेमनोजशुक्लाकहतेहैंकिउनकेभाईकिहत्याकेवक्तकुछउनकीपार्टीकेलोगहीविकासदुबेकोसंरक्षणदेरहेथे.मनोजनेकहा,'जिससमयसंतोषभैयाकीहत्याहुईथीउससमयभारतीयजनतापार्टीकीसरकारथी.भारतीयजनतापार्टीकेकुछमाननीयलोगइसमेंशामिलथे.फिरइसकेबादबसपासेवहजिलापंचायतहोगयातोउसकेअपनेरिश्तेहोगए.'

पिछले30सालोंमेंविकासदुबेनेअपराधकीदुनियामेंअपनीबड़ीहनकबनाली.इसवक्तविकासदुबेकेऊपर60क्रिमिनलकेसचलरहेहैं.भारतीयदंडसंहिताकी46आपराधिकदफोंमेंउसकेऊपरमुकदमेहैं.इनमेंहत्याऔरहत्याकेप्रयासके20मुकदमें.गुंड़ाएक्टऔरगैंगस्टरएक्टमें15मुकदमें.दंगोके19मुकदमें.एनडीपीएसएक्टके2मुकदमेशामिलहैं.एकबारउसपरएनएसएभीलगा.

पूर्वविधायकबी.एन.मिश्राकहतेहैं,'औरकुछनेताऐसाहैंकिवोचाहतेहैंकिबिनामेहनतकेचुनावजीताजाएतोऐसेअराजकतत्वोंकासहयोगलेतेहैं.मेहनतनहींकरनीहैऔरचुनावजीतनाहैतोऐसाकुख्यातअपराधियोंकासंरक्षणकरतेहैं.औरनेताओंकेकारणहीधीरेधीरेपुलिसप्रशासनसेभीसंबंधहोजातेहैं.कहींनकहींइससिस्टममेंगड़बड़ीहै.इससिस्टमकोठीककरनापड़ेगा.औरचुनावआयोगकोचाहिएकिइनचीजोंपरध्यानदे.