जोड़ मेले में पहुंची संगत गुरुद्वारा साहिब में हुई नतमस्तक

संवादसूत्र,झब्बाल:गांवचीमाकलांमेंबाबासाहिबसिंहजीकावार्षिकजोड़मेलापंचायत,ग्रामीणोंवएनआरआइलोगोंकेसहयोगसेमनायागया।रखेगएश्रीअखंडपाठसाहिबजीकेभोगडालेगए,उपरांतरागी,कीर्तनीजत्थोंवकथावाचकोंनेसंगतोंकोगुरमतिविचारोंसेगुरुचरनोंमेंजोड़ीरखा।शामकोविभिन्नटीमोंकेबीचकबड्डीमैचहुए।

गुरुद्वारासाहिबकेमुख्यसेवादारबाबाअमरीकसिंहनेबतायाकिधन-धनबाबासाहिबसिंहजीकेवार्षिकजोड़मेलेमेंबड़ीसंख्यामेंदूर-दूरसेपहुंचीसंगतोंनेगुरुद्वारासाहिबनतमस्तकहई।संगतोंलिएठंडेमीठेजलकीछबील,चाय-पकौड़े,जलेबिवगुरुकालंगरअटूटवितरणकियागया।शामकोकबड्डीकाशोमैचकरवायागया।जिसमेंपंजाब-हरियाणाकीलड़कियोंकीटीमोंनेअपनेजौहरदिखाएऔरइसमैचमेंहरियाणाकीटीम10अंकोंकेफर्कसेविजेतारही।लड़कोंकेकबड्डीमैचमेंपंजाबकीनामवरटीमोंबाबाविधिचंदस्पो‌र्ट्सक्लबसुरसिंहवभाईलखबीरसिंहस्पो‌र्ट्सक्लबघरियालाकेबीचमैचहुआ।इसमैचमेंभाईलखबीरसिंहस्पो‌र्ट्सक्लबघरियालाकीटीमनेबाबाबिधिचंदस्पो‌र्ट्सक्लबसुरसिंहकोनौअंकोंसेफर्कसेहराकरजीतप्राप्तकी।

इसमौकेपरसरपंचअवनकुमारसोनूचीमावजिलापरिषदमेंबरमुनीशकुमारमोनूचीमानेमेलेमेंपहुंचीविभिन्नशख्सियतोंकोसिरोपादेकरसम्मानितकिया।समारोहमेंगुरुद्वाराकमेटीमेंबरदिलबागसिंह,बलदेवसिंहपट्टू,जसबीरसिंह,जीवनसिंह,गुरविदरसिंह,बचित्रसिंह,रविदरसिंह,जसपालसिंह,ईशरसिंह,सरबजीतसिंह,पालसिंह,कुलदीपसिंह,ज्ञानसिंह,सरवनसिंह(रिटाचाहल),सरवनसिंहसोहल,मास्टरपिकपालसिंहचाहल,पहलवानमलकीतसिंहचीमा,सरपंचकुलजीतसिंहचीमा,गुरप्रीतसिंहलाडीपंजवड़,तजिदरपालसिंहरसूलपुर,कुलविदरसिंहठट्ठगढ़,रणजीतसिंहराणाठट्ठगढ़,गुरदयालसिंहलाली,मलकझब्बाल,बीएसझब्बाल,मुख्तारसिंहमक्खी,माइकलझब्बाल,हंसपालचीमा,सोनूसंघणिया,डा.मिलापसिंह,गुरदेवसिंहराणामौजूदथे।