ज्ञानवापी: जिस 'वजूखाने' में शिवलिंग मिलने का दावा, वो होता क्या है?

ज्ञानवापीमेंवजूखानेकेअंदरशिवलिंगमिलनेकेबादअबवहांवजूकरनेपरपाबंदीलगानेकीमांगउठनेलगीहै. ऐसेमेंअगरआपनहींजानतेतोआपकेमनमेंएकसवालजरूरउठरहाहोगाकिआखिरवजूक्याहै..औरमुस्लिमधर्ममेंइसेलेकरक्यामान्यताएंहैं..आपकीइसजिज्ञासाकोशांतकरनेकेलिएहमनेमुस्लिमविद्वानोंसेबातकीहै..जिन्होंनेबतायाहैकिवज़ूअरबीमूलकाशब्दहैऔरयेनमाजकीतैयारियोंकापहलाचरणहै.

मस्जिदमेंवजूखानाकीअहमियत

मस्जिदमेंनमाजसेपहलेमुस्लिमसमुदायकाहरशख्सशारीरिकशुद्धताकेलिएवजूकरताहै. इस्लामधर्मकेजानकारोंकाकहनाहैकिवजूकरनेकेबादहीनमाजपढ़ीजासकतीहै. मानाजाताहैकिवजूकेलिएपानीबहताहुआहोनाजरूरीहै. वजूकरनामहिलाओंकेलिएभीजरूरीहोताहै. अगरकोईघरपरभीनमाजकररहाहैतोउन्हेंभीवजूकरनाजरूरीहोताहै.

बतायाजाताहैकि जामियामस्जिदमेसिर्फउसतरहकावजूखानाबनाहै..जोपुरानीमस्जिदोंमेंहै...येवजूखानेइसलिएक्योंकिनलनहींहोतेथे..तालाबकेबीच..मस्जिदकेकिनारेबनायाजाताथा. इस्लाममेंवजूकेलिएचारचीजेंहैं..हाथधोना..कुल्लीकरना..तीनबारपूरेचेहरेकोधोना...येवजूकाबेसिकहै..उसकेबाद बाजूतकतीनबारहाथधोनाहै.

उसीकेबादनमाजपढ़नेकेलिएजायाजाताहै..लेकिनइसवजूकरनेसेपहलेसाफसुथराहोनाचाहिए..जितनीबारीनमाजपढ़ें...हरएकमुसलमानकोवजूकरनाजरूरीहै. लेकिनअबजमानाबदलगयाहै..मस्जिदोंमेंभीमॉडर्नाइजेशनआईहै..बाथरुममेंजाकरवजूकियाजाताहै.

मस्जिदमेंफव्वारेवालाविवाद

वैसेवजूकेबादज्ञानवापीविवादमेंएकऔरमुद्देपरबहसचलरहीहै. ज्ञानवापीकेफव्वारेकेपीछेकौनसा विज्ञानहै?आजतकनेइसमुद्देपर प्रोफ़ेसरअख्तरसेखासबातचीतकीहै.वेबतातेहैंकिमुगलकालमेंभीफिजिक्सऔरडायनामिक्सकाफीडिवेलपथाऔरजोपानीकोएकजगहसेदूसरीजगहतकलेजानेमेंकामआताथा. हमआमतौरपरवैदिकऔरमुस्लिमतकनीकोंकोनजरअंदाजकरदेतेहैंऔरयहीमानतेहैंकिअंग्रेजोंनेहीसारीवैज्ञानिकतकनीकीहमेंदीलेकिनऐसानहींहै.पहलेभीऐसेउदाहरणहैं चाहेवोदिल्लीमेंहोयाऔरकहींजहांपरवाटरडायनॉमिक्सपरकामकियागयाथा.

मुस्लिमधर्ममेंप्रार्थनासेपहलेवजूकरनेकीप्रथारहीहैऔरउसकेलिएहीऐसेहोदायापौंडमस्जिदोंमेंबनाएजातेथेऔरउनमेंफव्वारेइसलिएलगाएजातेथेताकिपानीठहरेनहींक्योंकिठहराहुआपानीसड़जाताहै.प्रोफेसरयेभीमानतेहैंकि मस्जिदमेंभीजोस्ट्रक्चरदेखनेकोमिलाहैउससेयहीलगताहैकिवहफव्वारारहाहोगाऔरउसकाकामपानीकोसाफकरनेकामालूमपड़ताहै. उसमेंकौनसीतकनीकअपनाईगईहोगीयाफिरपत्थरकाक्याइस्तेमालरहाहोगाउसकेबारेमेंजानकारीखोजबीनकेजरिएहीपताचलसकतीहै. मुगलकालीनतकनीकतुर्कीऔरअन्यदेशोंसेहिंदुस्तानमेंआईथीऔरयहांपरभीअपनीतकनीकविकसितकीगईइसलिएअलग-अलगजगहोंपरअलग-अलगतकनीकदेखनेकोमिलतीहै.