जल संरक्षण को महिलाओं को जागरूक कर रहीं अंजुला

रामपुर:यदिसमयरहतेसचेतनहींहुएतोआनेवालेसमयमेंपानीकोतरसनापड़सकताहै।घटताभूजलयहीसंकेतदेरहाहै।बेहतररहेगासमयरहतेइससंकेतकोसमझपानीकेफिजूलखर्चपरअंकुशलगायाजाए।हरक्षेत्रमेंयोगदानकरनेवालीमहिलाएंइसदिशामेंसराहनीयभूमिनिभासकतीहै।घरमेंकाजकाजकेदौरानथोड़ाइसतरफध्यानदेकरयदिपानीकाकमउपयोगकरेंतोजलसंरक्षणकोकाफीमददमिलसकतीहै।कुछइसीतरहकेसंदेशोंकेसाथअंजुलाप्रभाकरमहिलाओंकोजागरूककरनेमेंलगींहैं।

वहआवासविकासकालोनीनिवासीऔरमिलकनिस्बीसिंहस्थितसरकारीस्कूलकीप्रधानअध्यापिकाहै।स्कूलमेंबच्चोंकोपढ़ानेकेसाथवहसामाजिककार्योंमेंभीरुचिलेतीहै।फिलहालवहजलसंरक्षणकेलिएभीप्रयासरतरहतीहैं।संपर्कमेंआनेवालीमहिलाओंकोघटतेभूजलसेआनेवालेसमयमेंसामनेआनेवालीदिक्कतसेअवगतकरातीहैं।महिलाओंकोकमपानीकेउपयोगमेंअधिककामकरनेकोप्रेरितकरतीहैं।उन्हेंपानीकीकीमतसमझातीहैं।कहतीहैंकिजलसंरक्षणपरयदिध्याननहींदियातोआनेवालेसमयमेंशुद्धपेयजलमिलनामुश्किलहोजाएगा।इसलिएअभीपानीकामहत्वसमझतेहुए।उसकेअनाप-शनापउपयोगसेपरहेजकरनाआरंभदेनाचाहिए।कहतीहैंकिइसमेंमहिलाएंबड़ायोगदानदेसकतीहैं।घरमेंरहकरकामकाजकेदौरानपानीकाउपयोगकरतेहुएकमपानीमेंअधिककामकरनेकीआदतडालनीचाहिए।बर्तनसाफकरने,कपड़ेधोने,घरकीधुलाईजैसेकार्योंकेदौरानकाफीपानीकीबचतकीजासकतीहै।वहकहतींहैंकिस्कूलमेंजलसंरक्षणकोलेकरदोसालपूर्वएककार्यक्रमहुआथा।उसकेबादसेवहसंपर्कमेंआनेवालीमहिलाओंकोइसकेप्रतिजागरूककरनेकाप्रयासकरतींहैं।उन्हेंलगताहैकिसरकारीस्तरसेकिएजारहेप्रयासोंकेसाथघरकीमहिलाएंभीइसमेंबड़ायोगदानदेसकतीहैं।