जिले के नहरों में आ रहा है आफत का पानी

लगातारकिसानोंपरआफतआतीजारहीहै।नवंबरसेआरहीआफतसेकिसानपरेशानहोचुकेहैं।पहलेतोधानकीफसलअबदलहनवतिलहनफसलकोनुकसानहोनेलगाहै।धानकोचावलकुटानेकेबादचावलभीपिलाहोजारहाहै।बाजारमेंउसचावलकीकीमतऔनेपौनेदामलगरहीहै।वहींबाजारमेंभीधानकीकीमत14सौरूपएसेअधिकनहींलियाजारहाहै।तमड़ाकाबहानाबनाकरबनियाकमदामोंमेंधानलेरहेहै।उधरकिसानोंकोधानकीफसलमेंनुकसानहुआ।उसकेबाददूसरीफसलगेहूंकीबोआईमेंदेरीहुई।अबजिलेमेंपिछलेदोदिनोंमेंअच्छीबारिशहुई।बारिशसेदलहन-तिलहनफसलकोनुकसानहुआहै।वहींइसीबीचइंद्रपूरीबराजसेकैमूरजिलेकीनहरोंमेंपानीछोड़ागयाहै।सूत्रोंकेमुताबिककैमूरकेलिए300क्यूसेकपानीमिलाहै।ऐसेमेंवोपानीकिसीकामकानहींहोगा।वोपानीबेकारनहरमेंवनहरोंकेपासकेखेतोंमेंबहरहाहै।ऐसीस्थितिभगवानपुरवरामपुरप्रखंडमेंअधिकहै।जबकिबारिशहोनेसेकिसानोंकेखेतोंमेंपानीकीआवश्यकताहीनहींहै।पानीकाउपयोगनहींकरनेकेबावजूदभीकिसानोंकोपानीकामालगुजारीदेनाहोगा।ऐसेमेंलगातारकिसानकोघाटाहोतेजारहाहै।इसपरप्रशासनकीओरसेभीकोईपहलनहींहोरहाहै।