Jhajjar News: डेंगू से कम हो रहे प्लेटलेट्स, मरीज के‍ लिए ब्‍लड डोनर और बकरी का दूध तलाश रहे तिमारदार

जागरणसंवाददाता,झज्जर:डेंगूसेबचनेकेलिएविशेषज्ञचिकित्सकोंकेअनुसारमच्छरोंसेसुबहयाशामसबसेअधिकसावधानरहनेकीजरुरतहै।इसलिए,सुबहयाशामजबभीघरसेबाहरनिकलतेहैंतोफुलआस्तीनकेकपड़ेपहनें।अपनेशरीरकोढककररखें।क्योंकि,मौजूदासमयमेंशहरहोयागांव,हरजगहसेडेंगूप्रभावितोंकीसंख्यासामनेआरहीहै।मौजूदापरिस्थितियोंमेंमरीजकेसाथ-साथतिमारदारभीपरेशानहैं।जबकि,अस्पतालोंमेंमरीजोंकीसंख्यानिरंतरबढ़रहीहैं।चिंताकाविषययहहैकिपरिवारमेंएकव्यक्तिकेचपेटमेंआनेकेबादअन्यभीप्रभावितहोरहेहैं।

डेंगूकाआमलक्षणहैं,मिचली,उल्टीऔरबुखारआना।आंखोंमेंदर्द,मांसपेशियों,जोड़ोंयाहड्डीमेंदर्दहोना।डेंगूमेंज्यादातरलोगलगभगएकसप्ताहमेंठीकहोजातेहैं।डेंगूसेबचावकेलिएसबसेजरूरीहैकिलोगइसरोगकेप्रतिजागरूकहोंऔरउन्हेंइसरोगसेजुड़ीसहीजानकारीकापताहोनाचाहिए।

चिकित्सकडा.राकेशगर्गकेमुताबिकआमतौरपरलोगोंकोलगताहैकिएकबारडेंगूहोनेपरयहदोबारानहींहोसकता।लेकिन,यहसहीनहींहै।दरअसल,डेंगूकेचारतरहकेवायरसहोतेहैं।इसकेअलग-अलगवायरसएकसेज्यादाबारशरीरकोचपेटमेंलेसकतेहैं।ऐसेमेंयदिआपकोडेंगूहोभीगयाहैतोयेपरहेजकरतेरहेंजिससेआपकेशरीरकावायरसदूसरोंतकनपहुंचे।नजदीकीचिकित्सकसेसहायतालेंऔरखूनमेंप्लेटलेट्सकीजांचकरवालें।उपचारकामुख्यतरीकासहायकचिकित्सादेनाहीहै।रोगीकोलगातारपानीदेतेरहेंनहींतोशरीरमेंपानीकीकमीहोसकतीहै।

कैसेफैलताहैडेंगू

दरअसल,डेंगूवायरसएडिजप्रजातिकेमच्छरोंकेकाटनेसेलोगोंमेंफैलताहै।बिल्कुलवैसेहीजोजीकाऔरचिकनगुनियाकेवायरसफैलातेहैं।येमच्छरआमतौरपरजमाकिएहुएपानीकेपासअंडेदेतेहैं,जैसेबाल्टीमें,पालतूजानवरोंकेबर्तनमें,फूलदानमेंकूलरकेपानीमें,पौधोंकेलिएरखीपानीकीबाल्टीमेंआदि,येमच्छरइंसानोंकोज्यादाकाटतेहैंऔरलोगोंकेघरकेअंदरऔरबाहरदोनोंजगहरहतेहैं।मच्छरदिनऔररातमेंकाटतेहैं।

डेंगूसेबचनेकेउपाय:

-मच्छरभगानेवालीक्रीमकाइस्तेमालकरें

-शरीरकोपूरीतरहसेढकनेवालेकपड़ेपहनें

-खिड़कियोंऔरदरवाजोंपरजालीदारदरवाजोंकाउपयोगकरें

-सुबहऔरशामकोबाहररहनेसेबचनेकीकोशिशकरें

-आसपासपानीजमानहींहोनेदें

-प्लांटपोटप्लेटोंसेअतिरिक्तपानीनिकालें

-गमलोंमेंलगेपौधोंकीमिट्टीकोढीलाकरें

-एयरकंडीशनिंगयूनिटकेनीचेकोईबर्तननहींरखें

-विशेषज्ञचिकित्सकडा.संजीवहसीजाकेमुताबिकअपनेरहनेकीजगहऔरउसकेआसपासकेइलाकोंमेंसम्पूर्णस्वच्छताकाध्यानरखनाचाहिए।अपनेआसपासकीजगहोंकोसाफकरकेरखनेसेआपमच्छरोंकोसरलतासेदूररखसकतेहैं।जिनबर्तनोंकालंबेसमयतकइस्तेमालनहींहोनाहो,उनमेंरखेहुएपानीकोनियमितरूपसेबदलतेरहें।साथहीप्रारंभिकलक्षणोंकोअनदेखानकरें।