झारखंड में विधि व्यवस्था बद से बदतर : कृष्ण नंदन

निरसा:बिहारकेपूर्वीचंपारणहरसिद्धिविधानसभासेभाजपाविधायककृष्णनंदनपासवाननेनिरसाकेनयाडांगामेंमांकालीमंदिरमेंमत्थाटेकनेकेबादपौधारोपणकिया।मंदिरकमेटीकेअध्यक्षमक्कूसिंहवभारतस्वाभिमानन्यासकेजिलासंयोजकमनजीतसिंहनेअंगवस्त्रदेकरउनकास्वागतकिया।इसकेबादवेनिरसाभाजपाकार्यालयपहुंचेजहांभाजपानेतागणेशमिश्रानेअंगवस्त्रदेकरउन्हेंसम्मानितकिया।इसदौरानउन्होंनेकहाकिपूर्वकीभाजपासरकारनेझारखंडमेंविकासकीलंबीलकीरखींचनेकाकामकियाथा।लेकिनयूपीएगठबंधनकेमहजडेढ़वर्षकेकालखंडमेंझारखंडकेयुवा,किसान,मजदूर,व्यवसायी,छात्रअपनेकोछलामहसूसकररहेहैं।हेमंतसरकारमेंट्रांसफरपोस्टिगएकउद्योगकेरूपमेंस्थापितहोचुकाहै।विधिव्यवस्थाकीस्थितिबदसेबदतरहोगईहै।जजकीहत्याकरदीजारहीहै।जिलामुख्यालयमेंजिलाअधिकारीवराज्यकेकांग्रेसीमंत्रीकीउपस्थितिमेंआंदोलनकारीछात्राओंपरजिसप्रकारसेलाठियांबरसाईगई,इससेघृणितकार्यकुछनहींहोसकता।नयाडांगाकालीमंदिरमेंस्वागतकरनेवालोंमेंमधुरेंद्रगोस्वामी,सपनसेनगुप्ता,रोनेमुंडे,लालमोहनमहतो,कुंजबिहारीमिश्रा,मनोजसिंह,सुरेशसिंह,रविद्रप्रधान,विपिनसिंह,विजयविशाल,कुंदनसिंह,सरोजयादव,राजकुमारसाव,नागेंद्रसिंह,संतोषयादव,गुड्डूवर्णवालऔरनिरसाभाजपाकार्यालयमेंमंडलअध्यक्षबृहस्पतिपासवान,पूर्वअध्यक्षअशोकगुप्ता,रोमामुखर्जी,मनोजपांडे,गोविदायादव,सजलदास,पवनयादव,दिनेशठाकुर,दीपकदास,अरूपमंडल,मुन्नाठाकुर,महेश,राजूपासवान,महेशसावआदिमौजूदथे।