इस शहर की यही कहानी, हर तरफ पानी ही पानी

पूर्णिया।शहरमेंएक-दोघंटेकीबारिशसेहीइसशहरकीसूरतबदलजातीहै।हरतरफपानीहीपानीनजरआनेलगताहैऔरलोगोंकीपीड़ाचरमपरपहुंचजातीहै।बुधवारकीदोपहरबादहुईजोरदारबारिशनेएकबारफिरशहरकीसूरतबिगाड़दीहै।बारिशकेसाथहीशहरकादर्दछलकनेलगाहै।जलजमावकीविकरालहोतीसमस्याकेकारणलोगोंकीयहस्थितिहोगईहै।बारिशकीआहटभीअबलोगोंकोडरानेलगीहै।अधिकांशबाजारोंसेलेकरकईमोहल्लोंमेंजलजमावकीसमस्याएकबारफिरचरमपरहै।तीनदर्जनसेअधिकमोहल्लोंमेंघंटेभरकीबारिशकेबादलोगोंकेलिएघरसेनिकलनामुश्किलहोजाताहै।एकबारफिरउनमोहल्लोंकीसड़कोंपरदोसेतीनफीटपानीजमाहोगयाहै।यहीहालकईमुख्यसड़कोंवबाजारोंकाभीहै।फिलहालइसबारिशसेमोहल्लेकीगलियोंसेलेकरशहरकेअधिकांशमुख्यसड़कोंकीस्थितिबदसेबदतरहोगई।बसपड़ावमेंघुटनाभरपानीलगगयाहै।औरतोऔरनगरआयुक्तकाकार्यालयतकइससेबचानहींरहसकाहैऔरकार्यालयपरिसरमेंएकफीटसेअधिकपानीजमाहोगयाहै।

शहरकेमाधोपाड़ा,लाइनबाजार,रामबाग,प्रभातकालोनी,सुदीनचौक,टीचर्सकालोनी,विकासबाजार,शारदानगर,नवरतन,बाड़ीहाट,न्यूसिपाहीटोला,सिपाहीटोलावमधुबनीतीनदर्जनसेअधिकमोहल्लोंवमुख्यबाजारोंमेंभीस्थितिविकटहोगईहै।बालसुधारगृहसेप्रभातकालोनीजानेवालीसड़ककेसाथकलाभवनरोड,सुदीनचौकरोडआदिसेलोगोंकागुजरनामुश्किलहोगयाहै।बरसातपूर्वनगरनिगमकीहरतैयारीआरंभिककालमेंहीदमतोड़चुकीहै।शहरके75फीसदीसेअधिकमोहल्लोंमेंबारिशलोगोंकीपीड़ाबढ़ादेतीहै।माधोपाड़ाआदिमोहल्लोंमेंलोगोंकेलिएघरसेनिकलनाहोगयाहै।लोगोंकेलिएअपनावाहनघरतकलेजानाअबभीदूभरहै।अबनिगमकाबोर्डभंगहोजानेकेबादवार्डकेप्रतिनिधिभीसमस्यासेमुंहमोड़रहेहैं।बाजारोंकीरौनकपरलगाग्रहण-------------------------------------शहरकेअधिकांशबाजारोंकीरौनकपरबारिशनेग्रहणलगादिया।बारिशकेकारणइनबाजारोंकीसड़केंजलजमाववकीचड़सेपटारहा।बसपड़ावकेठीकसामनेअवस्थितविकासमार्केटमेंमुख्यपथपरनालाकादुर्गंधयुक्तपानीसेव्यवसायीसहितग्राहकोंकीपरेशानीचरमपररही।यहीहालभट्ठाबाजार,मधुबनीबाजार,लाइनबाजारआदिकीभीरही।इधरगुलाबबागमंडीपरिसरकीस्थितिभीऔरनारकीयहोगई।कचरावजलजमावसेबाहरसेआनेवालेव्यापारीभीपरेशानरहे।