गुरुद्वारों में गूंजे सबद-कीर्तन, लंगर का छका प्रसाद

रायबरेली:सिखधर्मकेसंस्थापकप्रथमगुरुगुरुनानकदेवके550वेंप्रकाशपर्वपरगुरुद्वारोंमेंधार्मिकआयोजनहुए।सबद-कीर्तनगायनकेसाथश्रद्धालुओंनेलंगरकाप्रसादछका।गुरुद्वाराश्रीगुरुसिंहसभागुरुनानकनगर,फिरोजगांधीनगरमेंसबसेअधिकलोगपहुंचे।

मुख्यग्रंथीज्ञानीजगरूपसिंह,ज्ञानीजनकसिंह,भाईअमरसिंहऔरभाईराजवीरसिंहनेकीर्तनकरसंगतकोनिहालकरदिया।पटियालासेआएप्रसिद्धरागीभाईसाहबभाईप्रतिपालसिंहनेकीर्तन,कथासुनाया।ज्ञानीजीनेबतायाकिगुरुजीकाजन्मकार्तिकपूर्णिमाकेदिनपाकिस्तानकेननकानासाहिबस्थिततलवंडीकेशेखपुरामेंहुआ।उन्होंनेहीआपसीसद्भावकेलिएलंगरकीप्रथाआरंभकीथी।इसमौकेपरत्रिलोचनसिंहनरुला,सुरेंद्रसिंहमोंगा,तेजपालसिंहमोंगा,अवतारसिंहछाबड़ा,जोगेंद्रसिंहअरोड़ा,गुरजीतसिंहतनेजा,बलजीतसिंहमोंगा,गुरमीतसिंहमोंगा,हरविदरसिंहगांधी,हरचरनसिंहमोंगा,सरबजीतसिंहगांधी,सरदाररघुवीरसिंह,सरदाररविदरसिंह,सुरेंद्रसिंहमोगाआदिमौजूदरहे।

लंगरकाछकाप्रसाद

संसू,लालगंज:गुरुद्वाराश्रीगुरुसिंहसभालालगंजमेंआईहुईसंगतोंनेसुबहसुखमनीसाहबकापाठकिया।लालगंजसमेतडलमऊऔरआरेडिकासेआईहुईसंगतोंनेकीर्तनसेनिहालकिया।लोगोंनेलंगरकाप्रसादछका।इसमौकेपरसतपालसिंहपालू,गुरचरनसिंह,बलवीरसिंह,सेवासिंह,अवतारसिंह,जगजीतसिंह,बलजीतसिंह,रामगोपालत्रिपाठी,नगरपंचायतअध्यक्षरामबाबूगुप्ता,संजयचड्ढ़ा,सभासदराघवेंद्रसूर्यवंशी,राजकुमारआदिमौजूदरहे।नकिसीकीहारहै,नकिसीकीजीत..

संसू,जगतपुर:प्रकाशपर्वपरकाव्यगोष्ठीकाआयोजनकियागया।गोष्ठीकीअध्यक्षतावरिष्ठरचनाकारबृजेशनाथत्रिपाठी,संचालनमहेशसिंहनेकिया।राजेंद्रसिंहराजनद्वारानकिसीकीहारहै,नकिसीकीजीतहै,सर्वोच्चन्यायालयकानिर्णयसबसेपुनीतहै,रचनाकारबृजेशनाथत्रिपाठीनेमांसितारोंकीदुनियामेंरहनेलगी,पीठपरप्यारकीथपकियाछोड़कर..सुनाया।इसकीसभीनेप्रशंसाकी।इसमौकेपरव्यापारमंडलमहामंत्रीमहेंद्रसिंह,कविरामकुमारसिंह,विनयसिंह,चंद्रेशसिंहआदिमौजूदरहे।