गुरमीत राम रहीम को उम्रकैद: पत्रकार छत्रपति के बेटे ने कहा- सजा से संतुष्ट हूं

सिरसा:हरियाणाकेसिरसामेंपत्रकाररामचंद्रछत्रपतिमर्डरकेसमेंपंचकूलाकीविशेषसीबीआईअदालतनेगुरुवारकोवीडियोकॉन्फ्रेंसिंगकेजरिएदोषियोंकोसजासुनाई.डेरासच्चासौदाप्रमुखगुरमीतरामरहीम,किशनलाल,निर्मलसिंहऔरकुलदीपसिंहकोरामचंद्रछत्रपतिकीहत्याकेजुर्ममेंउम्रकैदकीसजासुनाईगईहै.कोर्टकेफैसलेकेबादअबगुरमीतसिंहऔरउसकेतीनोंअन्यायीयानिनिर्मलसिंह,कुलदीपऔरकृष्णलालसारीउम्रजेलकीसलाखोंकेपीछेरहेंगेऔरउन्हेंताउम्रजेलमेंबितानीहोगी.अदालतनेअपनेफैसलेमेंचारोंअपराधियोंपर50-50हजारकाजुर्मानाभीलगायाहै.जुर्मानाअदानकरनेकीसूरतमेंउन्हेंदो-दोसालअतिरिक्तसजाभुगतनीहोगी.सीबीआईअदालतनेआर्म्सएक्टकेतहतभीकृष्णलालऔरनिर्मलसिंहकोतीन-तीनसालकीसजाऔर5-5हजारजुर्मानाकियाहै.

सिरसा:

साध्वीयौनशोषणमामलेमें20सालकीसजाभुगतरहेगुरमीतरामरहीमकोअबताउम्रजेलकीसलाखोंकेपीछेहीरहनाहोगा.पंचकूलाकीविशेषसीबीआईअदालतनेवीरवारकोसिरसाकेपत्रकाररामचंद्रछत्रपतिकेमर्डरकेसमेंऐतिहासिकफैसलासुनातेहुएगुरमीतरामरहीमऔरतीनदूसरेअभियुक्तोंकोउम्रकैदकीसजासुनादीहै.

सीबीआईकेअधिवक्ताएचपीएसवर्माकेमुताबिकसुप्रीमकोर्टकीफुलबेंचकेफैसलेकेतहतचारोंदोषियोंकोसारीउम्रजेलमेंरहनाहोगा.उन्होंनेकहाकिगुरमीतरामरहीमकीसजापहलेसेचलरही20सालकीसजापूरीहोनेकेबादशुरूहोगी.सीबीआईकेअधिवक्तानेबतायाकिआर्म्सएक्टकेतहतकिशनलालऔरनिर्मलसिंहको3-3सालकीअतिरिक्तसजादीगईऔऱ5-5हजाररुपयेजुर्मानालगायागयाहै.उन्होंनेकहाजुर्मानानहीभरनेपरइनदोनोंको3-3महीनेकीसज़ाअतिरिक्तकाटनीहोगी.

छत्रपतिरामचंद्रकेबेटेअंशुलऔरउसकेपरिवारमेंपिताकेहत्यारोंकोअंजामतकपहुंचानेकेलिए16सालसेभीज्यादासंघर्षकियाहै.पंचकूलाकीसीबीआईअदालतसेफैसलाआनेकेबादअंशुलछत्रपतिसंतुष्टनजरआएउन्होंनेकहाकिरामरहीमऔरउनकेतीनगुर्गोंनेउनकेपिताकीजोहत्याकीथीउसमामलेमेंकोर्टनेऐतिहासिकफैसलासुनायाहैऔरवेसंतुष्टहैं.इसकेसाथहीअंशुलछत्रपतिनेयहभीकहाकिअबइसफैसलेपरकोईअपीलनहींकरनाचाहते.वहींरामरहीमकेपूर्वड्राइवरऔरइसमामलेमेंगवाहीदेनेवालेखट्टासिंहनेभीकहाकिआखिरकारन्यायकीजीतहुईहै.उन्होंनेकहाकिजोलोगउनकोझूठाबतातेथेकोर्टकेफैसलेनेसाबितकरदियाहैकिवहझूठेनहींथेबल्किरामरहीमगुनहगारथा.

अखबारनिकालतेथेरामचंद्र

रामचंद्रछत्रपतिसिरसामेंपूरासचनामकादैनिकअखबारनिकालतेथे.उन्होंने2002मेंअपनेअखबारमेंडेरासच्चासौदाकीगतिविधियोंपरखबरेंलिखीं.रेपपीड़ितसाध्वीनेअपनेसाथहुईघटनाकाखुलासाकरतेहुएजोचिट्ठीलिखीथी.उसचिट्ठीकोछत्रपतिनेअपनेअखबारमेंछापाऔररामरहीमकेखिलाफएकतरहसेजंगछेड़दीथी.2002मेंएकगुमनामचिट्ठीकोअपनेअखबारमेंप्रकाशितकियाथा.इसचिट्ठीकोपंजाब-हरियाणाहाईकोर्टकेतत्कालीनप्रधानमंत्रीअटलबिहारीबाजपेयीऔरपंजाबहरियाणाहाईकोर्टकेचीफजस्टिसकेपासभीभेजागया.जिसपरसंज्ञानलेतेहुए24सितंबर2002कोपंजाब-हरियाणाहाईकोर्टनेसीबीआईजांचकाआदेशदिया.सीबीआईजांचकेआदेशकेएकमहीनेबादयानि24अक्टूबर2002कोपत्रकाररामचंद्रछत्रपतिपरसिरसामेंजानलेवाहमलाहुआथा.छत्रपतिकोघरकेबाहरदोशूटर्सने5गोलियांमारीथी.21नवंबर2002कोदिल्लीकेअस्पतालमेंउनकीमौतहोगईथी.तबसेपरिवारइंसाफकेलियेअदालतीजंगलड़रहाहैऔरअब16सालोंकेबादउन्हेंइंसाफमिला.

अखबारनिकालतेथेरामचंद्र