बूंद-बूंद बचाई, खेत-खेत सिंचाई

गजेंद्रचौहान,कासगंज

नकोईरिसर्चऔरनकोईइंजीनियरिग।मगर,ठेठदेहातीसोचनेजलसंरक्षणमेंजुटेबड़े-बड़ेविज्ञानियोंकेलिएप्लानिंगकीअलगधाराबहादी।नलकूपसेखेततकपहुंचते-पहुंचतेपानीकाकुछहिस्सानकेवलबर्बादहोजाताथाबल्किसिंचाईमेंसमयभीज्यादालगताथा।नलकूपसंचालककीसोचऔरकिसानोंकीसहमतिसेखेत-खेतमेंभूमिगतपाइपबिछादिएगए।हरखेतपरवाल्वलगेहैं।इसव्यवस्थासेसिंचाईमेंअबपानीकीएकबूंदभीबर्बादनहींहोती।सिंचाईमेंसमयभीकमलगताहै।

जलसंरक्षणकीमिसालबनाहैकासगंजक्षेत्रकागांवमामो।यहांगंगासहायऔरजगपालदोभाईहैं।दोनोंकेअपने-अपनेखेतोंमेंनलकूपहैं।पूरेक्षेत्रकेअन्यकिसानअपनेखेतोंमेंइन्हींनलकूपोंसेपानीलेतेहैं।जोखेतनलकूपसेकाफीदूरहैं,वहांतकपानीपहुंचनेमेंसमयलगताथा।खुलेमेंबहतेपानीकाकुछहिस्साबर्बादहोनालाजिमीथा।सिंचाईप्रबंधनकोबेहतरबनानेकेलिएदोनोंभाइयोनेकुछमहीनेपहलेग्रामीणोंसेबातकी।प्रस्तावरखाकिअपने-अपनेखेततकभूमिगतपाइपबिछानेपरसहमतिदेदें।लागतनलकूपसंचालकहीवहनकरेंगे।किसानरजामंदहोगए।

सरसों,गेंहूऔरआलूकीफसलकेबादखेतखालीहुएतबगंगासहायऔरजगपालनेअपने-अपनेनलकूपसेपूरेक्षेत्रकेखेतोंमेंभूमिगतपाइपबिछवादिए।हरखेतकेमुहानेपरवाल्वलगवाए।

ऐसेकीजातीहैपानीकीआपूर्ति

गंगासहायबतातेहैंकिजिसकिसानकोपानीलेजानाहोताहै,हमवाल्वकीचाबीउन्हेंसौंपदेतेहैं।वोकिसानअपनेखेतमेंलगेवाल्वकोचाबीसेखोललेताहै।पाइपलाइनसेपानीइधर-उधरनबहकरसीधेक्यारीतकपहुंचरहाहै।इसविधिसेपानीकीकाफीबचतहोरहीहै।ऐसेबचरहापानीऔरसमय

उदाहरणकेतौरपरसाधारणतरीकेसेसिंचाईकरनेपरएकबीघाखेतमेंएकघंटा50मिनटतककासमयलगताहै।100रुपएप्रतिघटाकीदरसेकिसानकोसिंचाईकाभुगतानकरनाहोताहै।नलकूपसेखेततककीदूरीजितनीज्यादाहोतीहै,पानीकीबर्बादीभीउतनीअधिकहोतीहै।भूमिगतपाइपलाइनमात्र80मिनटमेंएकबीघाफसलकीसिंचाईहोरहीहै।इसतरहपानीकीबर्बादीबचतीहै,सिंचाईकासमयबचताहै।आकड़ेकीनजरसे

-03किलोमीटरपाइपबिछाएहैखेतोंमें

-08लाखरुपएकीलागतआईइसव्यवस्थामें

-50सेअधिककिसानहोनेलगेलाभावितयहविधिबहुतअच्छीहै।हमेंसमयकीभीबचतहोरहीहैऔरपानीसीधेखेततकपहुंचरहाहै।खुलेरास्तेमेंपानीइधर-उधरलेताबहताहै।पाइपलाइनकापानीव्यर्थनहींबहरहा।

-राकेशकुमार,नगलामोहनइसविधिसेजलसंरक्षणहोरहाहैऔरफसलोंकीसिंचाईमेंकमलागतकेसाथहीसमयकीबचतहोरहीहै।यहविधिबेहतरविधिहै।निकटभविष्यमेंऐसेहीप्रयासऔरभीहोनेचाहिए।

-सोनूकुमार,मामो-----------

जलसंरक्षणकेलिएसिंचाईप्रबंधनजरूरीहै।बौछारीसिंचाईकेबादअबअंडरग्राउंडपाइपलाइनसेसिंचाईकातरीकाबेहतरहै।जोकिसानइसतरहकाप्रयासकररहेहैंउन्हेंसमय-समयपरप्रोत्साहितकियाजाएगा।

सुमितचौहान,जिलाकृषिअधिकारी