बॉर्डर के आधा दर्जन गांवों में पानी के लिए मचा हाहाकार

बेतिया।भारत-नेपालकीअंतरराष्ट्रीयसीमापरअवस्थितदोहजारसेअधिककीआबादीवालेभिखनाठोरीसमेतखैरटिया,खैरवाटोला,भतुजला,जमुनियाऔरसहोदराआदिगांवोंमेंपानीकेलिएहाहाकारमचाहै।लोगोंकोप्यासबुझानेकेअबलिएनदीनालोंपरनिर्भरहोनापड़रहाहै।आजजबसरकारकरोड़ोंरुपयेखर्चकरसातनिश्चययोजनाकेतहतहरघरकोनलकाजलउपलब्धकरारहीहैतोभीभिखनाठोरी,खैरवाटोला,खैरटिया,भतुजलाआदिगांवोंकेलोगपेयजलकेलिएमारेमारेफिररहेहैं।शुद्धपेयजलकीबाततोकाफीदूरहै।यहांकीमहिलाऔरपुरुषोंकोपानीकेलिएकईकिलोमीटरदूरजाकरघड़ावगैलनमेंपानीभरकरलानापड़रहाहै।जबकिखानाबनानेकेलिएनदीकेगंदेपानीपरहीनिर्भररहनापड़रहाहै।हदतोयहकियहांएकभीचापाकलतकनहींहै।सरकारकेप्रयाससेसोलरचालितपानीटंकीकीव्यवस्थाकीगई।शुरुआतमेंकुछदिनोंतकलोगोंकोपीनेकेलिएशुद्धपानीमिलनेलगा।मगरवहव्यवस्थाभीढ़ाककेतीनपातसाबितहुई।विगतपांचमहीनेसेजलकास्तरनीचेचलेजानेसेपानीकानिकलनाबंदहोगया।सरकारीनलकीव्यवस्थासफेदहाथीबनकरमुंहचिढ़ारहीहै।पूर्वमुखियादयानंदसहनीबतातेहैंकिपानीनहींहै।लेकिनकोईभीसरकारीअधिकारीसुधलेनेनहींआया।ग्रामीणपुन्नासिंहबतातेहैकिपहलेजबसोलरप्लेटसेपानीनहींमिलताथा।तबपीडब्ल्यूडीद्वाराटैंकरसेपानीलाकरयहांलोगोकोपीनेकाशुद्धपेयजलउपलब्धकरायाजाताथा।मोतीलालपासवानकाकहनाहैकिहमलोगोंकोपूछनेवालाकौनहै।सीमापरअवस्थितइसगांवमेंकोईभीअधिकारीहालतकपूछनेनहींआता।कईबारनेपालकेक्षेत्रमेंपानीकेलिएजानेपरनेपालकेस्थानीयलोगमारपीटकोउतारूहोजातेथे।पूर्ववार्डसदस्यधन्नूदेवीकहतीहैंकिपानीकेइससंकटमेंसबसेज्यादापरेशानीहममहिलाओंकोझेलनीपड़तीहै।लोगपानीभरतेसमयफब्बि्तयांकसते।लेकिनहममजबूरऔरतेंअपनेघरवालोंकीप्यासबुझानेकेलिएघरसेबाहरनिकलकरपानीलानेकोविवशहोजातेहैं।लोगोंमेंविभागीयउदासीनतासेकाफीनाराजगीहै।वाटरलेबलयहांबड़ीसमस्या,सारीकोशिशेंहोतींबेकार

यहांसबसेबड़ीसमस्यावाटरलेबलकीहै।यहांजमीनसेपानीनिकालनेकीकईबारकोशिशकीगई।मगरपथरीलाजगहहोनेकीवजहसेपानीनहींनिकालाजासका।तबइसइलाकेकेलोगोकेजीवनयापनकेलिएप्रतिदिनएकटैंकरपानीनरकटियागंजसेभेजनेकाइंतजामशुरूकरायागया।जबभीटैंकरसेपानीआता।पानीकेलिएलोगोंकीलंबीलाइनलगजाती।लोगपानीकीअहमियतकोजानकरउसेसहेजकररखते।बादकेदिनोंमेंसोलरकेमाध्यमसेपेयजलआपूर्तिकीव्यवस्थाकीगई।मगरआजवहभीबेकारपड़ाहै।..फिरभीपानीकीकिल्लतकानहींकरतेस्थाईसमाधान

सहोदरा,संवादसूत्र:स्थानीयथानाक्ष्रेत्रकेदोमाठपंचायतअंतर्गतवार्डसंख्यातीनकेखैरवाटोलाकीएकहजारआबादीवालायहगांवगर्मीकेदस्तकदेतेहीपानीकेलिएत्राहिमामकररहाहै।पानीकेलिएलोगोंकायहदर्दनतोकोईअधिकारीसमझरहाऔरनहींकोईजनप्रतिनिधि।ग्रामीणकिशुननिषाद,इन्द्रासननिषाद,उपेंद्रनिषाद,मदनमुखिया,कुंतीदेवी,अंतिमादेवी,पानमतीदेवी,रजनीदेवी,सामंतीदेवी,शम्भूनिषादआदिलोगोंनेबतायाकिपानीकीबढ़तीकिल्लतकेलिएअनेकोंबारप्रखंडमुख्यालयकाचक्करलगाकरथकगए।लेकिनवहांसुननेवालाकोईनहींहै।ग्रामीणोंनेबतायाकीइसभीषणगर्मीऔरचिलचिलातीधूपमेंभीगांवकेलोगोंकोपड़ोसकेगांवबेतहानियासहोदरासेपानीलानेजानापड़ताहै।जोकियहांसेकरीबएककिलोमीटरदूरहै।सुबहमेंबच्चेअपनीपढ़ाईलिखाईछोड़करपानीकेलिएपलायनकरतेहैं।दूरहोनेकीवजहदोसेचारलीटरतकहीपानीलापातेहैं।ऐसेमेंहमारीपानीकीआवश्यकताभीपूरीनहींहोपारहीहै।जिसपरहमारीजिदगीटिकीहुईहै।ग्रामीणोंनेबतायाकिगांवमेंसोलरचालितनलभीलंबेसमयसेमरम्मतकेअभावमेंबेकारपड़ाहै।अगरसोलरपावरटंकीकोअविलंबशुरूनहींकरायागयातोबहुतसेलोगपानीकेअभावमेंकालकेगालमेंसमाजाएंगे।दोमाठपंचायतकीमुखियाअंतिमादेवीनेबतायाकिपीएचईडीविभागकोइसकीसूचनाकईबारदीगई।लेकिनविभागकेतरफसेआजतककोईनिदानकेलिएनहींआया।