बिहार का एक ऐसा नेता जिसके इशारे पर नाचती थी दिल्‍ली की सियासत, फिर भी नहीं जानते होंगे आप

पटना,ऑनलाइनडेस्‍क।BiharPolitics:बिहारकीजमीनराजनीतिकरूपसेकाफीउर्वरमानीजातीहै।बिहारनेदेशकोपहलाराष्‍ट्रपतिदिया,अनेकोंबाररेलमंत्रीदिया।बिहारकीराजनीतिमेंसिक्‍काजमानेवालेराजदकेलालूप्रसादयादवदेशकाप्रधानमंत्रीबनते-बनतेरहगए।राज्‍यकेमौजूदामुख्‍यमंत्रीनीतीशकुमारकानामभीप्रधानमंत्रीकीदौड़मेंआचुकाहै।बिहारकेलोगोंकाराजनीतिसेइतनागहरारिश्‍ताहैकिपटनाऔरदिल्‍लीहीनहीं,वेजहांभीरहतेहैंअपनासिक्‍काजमालेतेहैं।मॉरिशसऔरत्रिनिदादतकइसकेउदाहरणभरेपड़ेहैं।आजहमआपकोएकऐसेहीनेताकेबारेमेंकईदिलचस्‍पकिस्‍सेबताएंगेजोरहनेवालातोबिहारकाथा,लेकिनउसकीराजनीतिअसमकेतिनसुकियासेलेकरगुवाहाटीऔरदिल्‍लीकेराजदरबारतकचमकतीरही।

छपराकेरहनेवालेमतंगसिंहनेअसमसेदिल्‍लीतकलहरायापरचम

हमबातकररहेहैंपूर्वकेंद्रीयमंत्रीऔरकांग्रेसनेतामतंगसिंहकी,जिनकानिधनगुरुवारकोहोगया।वे सारणजिलेकेतरैयाप्रखंडकेआकुचकगांवकेमूलनिवासीथे।मतंगसिंहअसमकीराजनीतिमेंबड़ाचेहराबनकरउभरेथे।पीवीनरसिंहरावसरकारमेंजबउन्‍हेंसंसदीयकार्यराज्यमंत्रीबनायागयातोपूरेदेशकेलोगोंनेउन्‍हेंजाना।नरसिंहरावकीसरकारमेंउनकीताकतऔरहैसियतअचानकबढ़ी।

चंद्रास्‍वामीसेथानिकटसंबंध,उन्‍हींकीवजहसेमिलीकेंद्रसरकारमेंजगह

मशहूरतांत्रिकचंद्रास्‍वामीनेमतंगसिंहकीसियासीसंभावनाकोपहचानाथाऔरउन्‍होंनेहीपीवीनरसिंहरावकीकांग्रेससरकारमेंउनकोजगहदिलाई।मतंगकोपीएमओसेजुड़ामंत्रालयमिलावेप्रधानमंत्रीकेखासमखासबनगए।वेकईमौकेपरनरसिम्‍हारावकेलिएसंकटमोचककीभूमिकामेंभीरहे।

शारदाचिटफंडघोटालेकेबाददोबाराआएफलकपर

पीवीनरसिंहरावकीसरकारचलीगईतोमतंगसिंहकीराजनीतिभीधीरे-धीरेसुस्‍तपड़गई।लेकिनपीएमओकामंत्रालयसंभालतेहुएउन्‍होंनेजोपकड़सिस्‍टमऔरअफसरशाहीपरबनाई,उसकाफायदाआखिरतकउठातेरहे।इसकालाभलेकरउन्‍होंनेअपरअसमकेतिनसुकियासेगुवाहाटीऔरपश्‍चिमबंगालकेकोलकातासेदेशकीराजधानीदिल्लीतकलिया।शारधाचिटफंडघोटालासामनेआयातोमतंगसिंहकानामएकबारफिरलोगोंनेजाना।

मतंगकीवजहसेकेंद्रीयगृहसचिवकोगंवानापड़ाथापद

मतंगसिंहकानामशारधाचिटफंडघोटालेमेंआनेकेबादउन्‍हेंगिरफ्तारीसेबचानेकीकोशिशकरनेवालेतत्‍कालीनकेंद्रीयगृहसचिवअनिलगोस्‍वामीकोअपनापदगंवानापड़ाथा।बादमेंमतंगसिंहभीगिरफ्तारहुए।कहाजाताहैकिनसिर्फब्‍यूरोक्रेसीबल्किसीबीआइऔरअर्धसैनिकबलोंमेंभीउनकेलिएकामकरनेवालेअधिकारीमौजूदथे।

यूपीएकीसरकारमेंमिलाजेडप्‍लससिक्‍योरिटीकवर

मतंगसिंहकेरसूखकाअंदाजाआपइसीबातसेलगासकतेहैंकिउन्‍हेंयूपीएसरकारकेदौरानजेडप्‍लससिक्‍योरिटीकवरमिलाहुआथा।36कमांडोऔर100सेअधिकसुरक्षाकर्मीउनकेसाथतैनातरहतेथे।लेकिनशारधाचिटफंडघोटालेमेंनामआनेकेबादसबकुछबदलगया।

तिनसुकियासेहुईराजनीतिकजीवनकीशुरुआत

मतंगसिंहकीराजनीतिअसमकेहीतिनसुकियाजिलेसेशुरूहुई।इसेमिनीबिहारभीकहाजाताहै।अबयहांबिहारियोंकीतादादपहलेसेकमहोगईहै,लेकिनएकवक्‍तथाकियहांसेबिहारीहीविधायकऔरमंत्रीलगातारबनतेथे।इसीसीटसेविधायकऔरअसमसरकारमेंपरिवहनमंत्रीरहेशिवशंभूओझामूलत:बिहारकेभोजपुर(आरा)जिलेकेरहनेवालेथे।इसबारलालूप्रसादयादवकीपाटीराजदनेइसीसीटसेहीरादेवीचौधरी,जोमूलत:बिहारकेभागलपुरकीरहनेवालीहैं,औरशादीकेबादअसमशिफ्टहुईं,कोअपनाउम्‍मीदवारबनायाथा।हालांकिवहचुनावहारगईं।

तेजीसेचढ़ेराजनीतिकेशीर्षपर

असममेंकईपुरानेलोगबतातेहैंकिमतंगसिंहनेअसममेंकोयलामाफियाकेसाथजुड़करअपनीताकतबढ़ाई।बादमेंवेकांग्रेससेजुड़गए।1990सेउनकेराजनीतिकजीवनकीशुरुआतमानीजातीहै।तबतकवेअच्‍छी-खासीदौलतजुटाचुकेथे।1991मेंउन्‍हेंअसमकांग्रेसमजदूरसेलकाअध्‍यक्षबनायागया।राजीवगांधीसेनजदीकीसंबंधहोनेकादावावेखुदकरतेथे।1992मेंकांग्रेसनेउन्‍हेंअसमसेराज्‍यसभामेंभेजदिया।

नरसिंहरावकीसरकारमेंदेखतेहीबनताथाजलवा

राजीवगांधीकेबादपीवीनरसिंहरावकोकांग्रेसमेंपकड़मजबूतबनानेमेंमतंगसिंहकाखूबसहयोगमिला।तांत्रिकचंद्रास्‍वामीकीवजहसेदोनोंकरीबआए।इसकेबादनरसिंहरावनेउन्‍हेंअपनीसरकारमेंमंत्रीबनाया।वे1994से1998तककेंद्रसरकारमेंमंत्रीरहे।रावकीसरकारकेदौरानदिल्‍लीकेसियासीगलियारेमेंउनकाजलवाहुआकरताथा।नेता,मंत्रीऔरअफसरोंकीसेटिंगकरने-करानेऔरबिगाड़नेकोलेकरउनकानामचर्चामेंरहा।रावकीसरकारजबकभीमुसीबतमेंआई,मतंगनेसेटिंगमेंअहमभूमिकाअदाकी।

सोनियागांधीपरटिप्‍पणीकेबादकांग्रेससेनिकालेगए

दावाकियाजाताहैकिएकइंटरव्‍यूमेंकांग्रेसकीराष्‍ट्रीयअध्‍यक्षसोनियागांधीपरटिप्‍पणीकेबाद1998मेंमतंगसिंहकोपार्टीसेनिकालदियागया।हालांकिवेहमेशाखुदकोकांग्रेसीहीलिखतेऔरबतातेरहे।यहकाफीहदतकसहीथा,क्‍योंकिमनमोहनसिंहकेनेतृत्‍ववालीयूपीएसरकारनेबिनाकिसीमहत्‍वपूर्णपदपरहोतेमतंगकोजेडप्‍लससिक्‍योरिटीदेरखीथी।2014मेंनरेंद्रमोदीकेनेतृत्‍वमेंएनडीएकीसरकारबनतेहीयहसुरक्षाकवरहटालियागया।

असममेंहीहुआथामतंगसिंहकाजन्‍म

मतंगसिंहकाजन्‍मअसमकेहीतिनसुकियाजिलेमेंहुआथा।उनकाजन्‍म1962मेंहुआथा।उनकेपिताकानामएसपीसिंहऔरमाताकानामरानीरुक्मिनीसिंहथा।हालांकिकुछलोगउनकाजन्‍मबिहारकेउनकेगांवमेंभीहोनेकादावाकरतेहैं।दरअसलअसममेंमूलनिवासीऔरबाहरीकाविवादइतनाअधिकरहाहैकिवहांरहनेवालेबिहारियोंकोहमेशायहसाबितकरनापड़ताहैकिवेयहींकेरहनेवालेहैं।वेअसममेंकईमीडियाकंपनियोंऔरहोटलोंकेमालिकथे।

पिछलेकुछमहीनोंसेबीमारचलरहेथेमतंग

बतायाजारहाहैकिमतंगसिंहपिछलेकुछमहीनोंसेबीमारथे।उनकेनिधनपरबिहारकेसारण(छपरा)जिलेकेकईराजनेताओंनेशोकजतायाहै।सारणकेभाजपासांसदराजीवप्रतापरूडी,महाराजगंजसांसदजनार्दनसिंहसिग्रीवालऔरबनियापुरविधायककेदारनाथसिंहआदिनेउनकेनिधनपरगहरादुखव्यक्तकियाहै।