बारिश न होने से गेहूं की बिजाई का कार्य लटका

उपमंडलपद्धरमेंदोमाहसेबारिशनहोनेसेसूखेनेकिसानोंकोसंकटमेंडालदियाहै।इससेगेहूंकीबिजाईरूकगईहै।बिजाईकोलेकरकृषिविभागकेविक्रयकेंद्रोंसेबीजकाप्रबंधभीकरलियाहै,लेकिनबादलबरसनेकानामनहींलेरहेहैं।

अक्टूबरसेनवंबरमध्यतकयहांगेहूंकीबिजाईकेलिएबेहतरसमयमानाजाताहै।सूखेकेचलतेजहांखेतोंमेंनमीनहींहै,वहींधूलकेकारणघासभीखराबहोरहीहै।धूलमिट्टीसेकिसानोंकेसाथसाथव्यापारीलोगभीपरेशानहैं।एनएचकिनारेदुकानोंकेभीतररखासामानखराबहोरहाहै।

अबकिसानबारिशकेलिएदेवी-देवताओंकेदरबारमेंपहुंचरहेहैं।किसानमखौलीराम,रसालूराम,भादरसिंह,पूर्णचंद,शेरसिंह,राजूराम,दीपकुमार,मोहनसिंह,खेमसिंह,दसौंधीराम,पूरखीराम,गोपालसिंहऔरमनीरामकाकहनाहैकिसमयपरबारिशनहोनेसेबिजाईमेंदेरीहोतीजारहीहै।लहसुन,धनियाऔरअन्यनकदीफसलेंबर्बादहोरहीहैं।जबकिप्याजकीपनीरीभीपीलीपड़गईहै।

गेहूंकीबिजाईकेलिए15अक्टूबरसे15नवंबरतकसबसेउपयुक्तसमयहोताहै।इसकेबादकिसानोंकोपछेतीकिस्मकीबिजाईकरनीपड़तीहै।इसबारलगातारसूखेकेहालातबनेहैं।किसानबिजाईकेलिएबारिशकेइंतजारमेंहैं।

-डाक्टरपूर्णचंदकृषिविषयवादविशेषज्ञपद्धर।