बांध और अतिक्रमण से जद्दोजहद कर रही खुरी नदी

झारखंडकेसीमावर्तीपहाड़ीइलाकेसेनिकलीखुरीनदीअबजीवनदायिनीनहींरही।इसकाविराटस्वरूपअबनालेकीशक्लअख्तियारकरचुकाहै।निकासकेमुहानेपरडैमकानिर्माणऔरमैदानीइलाकेमेंजगह-जगहअतिक्रमणहोनेसेनदीअस्तित्वबचानेकेलिएजद्दोजहदकररहीहै।इसेबचानेकेलिएजलपुरुषराजेंद्रसिंहकाएकदिनकासत्याग्रहभीकामनहींआया।उल्टेअतिक्रमणतेजीसेबढ़ताजारहाहै।नवादाशहरमेंतोनदीकाअस्तित्वनालेसेभीबदतरहोगयाहै।

नवादाजिलेमेंयहनदीरजौली,अकबरपुर,नवादासदरप्रखंडसेहोतेहुएनालंदाजिलेकीसीमामेंप्रवेशकरजातीहै।इसरास्तेमेंपड़नेवालेसैकड़ोंगांवोंकेहजारोंएकड़खेतोंमेंखरीफफसलकीखेतीकेदौरानइसकापानीसिचाईकेकामआताथा।खेती-किसानीकेलिएनदीकिसीवरदानसेकमनहींथी।झारखंडकेकोडरमाजिलेकेजंगलोंसेनिकलनेवालीखुरीनदीमुख्यरूपसेबरसातीहै।कईदशकपहलेबरसातकेमौसममेंनदीअपनेपूरेशबाबपररहतीथी।तबरजौली,अकबरपुर,नवादावनालंदाजिलेकेगिरियककेदर्जनोंगांवोंकेकिसानपईनसेपानीलाकरखरीफफसलकीखेतीकरतेथे।नदीमेंबाढ़आनेपरलालपानीजबखेतोंमेंफैलताथातोमिट्टीकीपरतजमाहोजातीथी।इससेखेतमेंउर्वराशक्तिबढ़जातीथीऔरपैदावारठीकहोतीथी।नदीकेदोनोंकिनारेजलसेलबालबहोकरबहतेथेतोखरीफफसलकेसाथरविफसलहोनेकीभीसंभावनाबढ़जातीथी।अकबरपुरप्रखंडकेजाखेदेवीपुर,अकबरपुर,मलिकपुरनेमदारगंजआदिगांवोंमेंकिसानमाघवफाल्गुनमाहमेंभीनदीमेंबांधलगाकरउसीकेपानीसेफसलउगातेथे।भूमईनिवासीश्रीयादवबतातेहैं,जबनदीमेंरजौलीप्रखंडअंतर्गतजॉबजलाशयबांधबांधकरडैमकानिर्माणकरदियागया,तबसेपानीकाप्रवाहकमहुआऔरखरीफफसलकीपैदावारप्रभावितहोनेलगी।नदीकीभूमिकाअतिक्रमणकरदबंगोंनेबनालियाघर:

वहींअतिक्रमणकारियोंकाअतिक्रमणचरमपरपहुंचगयाहै।पचरुखीपुलकेपाससेभुमईतकअतिक्रमणकोसहजहीदेखाजासकताहै।इतनाहीनहींदबंगोंद्वाराकिनारेकोभरकरवहांपरघरबनायाजारहाहै।सामान्यनागरिकझगड़ेकेडरसेकुछभीकहनेसेपरहेजकररहेहैं।वहीं,दबंगोंकीखुरीनदीकीभूमिकाअतिक्रमणकरनेकाखुलीछूटमिलीहै।यहीहालनवादाशहरकाहै।मिर्जापुरसेलेकरबाईपासमेंपुलतकअतिक्रमणकारियोंनेनदीकोनालाबनारखाहै।पिछले5-6वर्षोसेबरसातकमहोनेकेकारणनदीमेंपानीकास्तरघटताजारहाहै।फिलहालस्थितियहहैकिनदीसूखीहुईहै।कहींपानीदिखाईनहीपड़रहाहै।वहींप्रबुद्धलोगोंकाकहनाहैकिस्थितिऐसीहीकुछवर्षोतककायमरहीतोनदीकाअस्तित्वहीसमाप्तहोजाएगा।

क्याकहतेहैंकिसान:

खुरीनदीकेमुहानेपरडैमबनादिएजानेसेबरसातकेदिनोंमेंभीनदीभीसूखीरहतीहै।नदीमेंपानीनहींआनेसेसिंचाईकेअभावमेंफसलमारीजातीहै।

-राजकुमारयादव,किसान।फोटो-13-कृषिमुख्यरूपसेबरसातपरआधारितहै।वर्षाकापानीजबनदीसेहोकरप्रवाहितहोताथातोकिसानबांधलगाकरनदीकेपानीकोखेतोंतकलाकरकृषिकार्यकरतेथे।लेकिनअबतोनदियांहीप्यासीहैंतोधरतीकीप्यासकैसेबुझेगी?

-विजययादव,किसान।फोटो-12