अव्वल अल्लाह नूर उपाया, कुदरत दे सब बंदे

जागरणसंवाददाता,सोनभद्र:गुरुद्वारागुरुसिंहसभाराब‌र्ट्सगंजमेंसिखोंकेप्रथमगुरु,गुरुनानकदेवकाप्रकाशोत्सवधूमधामकेसाथशुक्रवारकोमनायागया।इसदौरानअव्वलअल्लाहनूरउपाया,कुदरतदेसबबंदे,एकनूरतेसबजगउपजिया,कौनभलेकौनमंदेकेनारेलगतेरहे।पर्वकोलेकरगुरुद्वाराकोझालरफूलमालाओंसेसजायागयाथा।

इसीक्रममेंकईदिनोंतकप्रभातफेरीभीनिकालीगई।भाईहरमीतसिंहवदयासिंहनेशबदकीर्तनकागायनकिया।

भटिडापंजाबसेआएरागीजत्थाभाईजोगिदरसिंहचाकरवउनकेसातभाइयोंद्वाराकथाकीर्तनवगुरुजीकाइतिहाससुनायागया।अध्यक्षजसवीरसिंहनेबतायाकिगुरुसाहबकाजन्मवर्ष1469कोतलवंडीनामकस्थानपाकिस्तानमेंहुआथा।अबइसकानामननकानासाहबहोगयाहै।उससमयसमाजकेअंदरनैतिकतागिरचुकीथीऔरअंधविश्वासछुआछूतवर्गव्यवस्थावऊंच-नीचमेंसमाजबटाहुआथा।विदेशीआक्रमणसेभारतकीस्वाधीनताभीसमाप्तहोचुकीथी।हमारीसोचमानसिकतास्थानीरूपसेगुलामहोचुकीथी।स्वाभिमानजैसेइंसानीगुणकहींखोगएथे,ऐसेसमयमेंभीगुरुनानकदेवनेलोगोंकोसाथमेंबैठनेकीप्रेरणादी।कहाकिपहलेपंगतमेंबैठकरप्रसादग्रहणकरेंवसंगतमेंबैठकरप्रभुकासंस्मरणकरेंइससेऊंच-नीचकीजातपातकीभावनासमाप्तहोसकेअपनीकमाईसेदसवांहिस्सासमाजमेंभलाईकार्यहेतुखर्चकरें।तत्पश्चातपूरेकार्यक्रमकीसमाप्तिकेदौरानहजारोंश्रद्धालुओंनेलंगरमेंप्रसादग्रहणकिया।इसमौकेपरसदरविधायकभूपेशचौबे,धर्मवीरतिवारी,अविनाशकुशवाहा,सुशीलपाठक,आनंदत्रिपाठी,रतनलालगर्ग,रंजीतसिंह,देवेंद्रसिंहभंडारी,अजीतसिंह,जसपालसिंह,बलकारसिंहआदिथे।