अदालत ने 35 साल पुराने ट्रांजिस्टर बम विस्फोट मामले में 30 लोगों को बरी किया

नयीदिल्ली,नौमार्च(भाषा)उत्तरभारतमेंहुएट्रांजिस्टरबमविस्फोटोंकेलगभग35सालबाददिल्लीकीएकअदालतने‘‘दोषपूर्ण,एकतरफा,अनुचित’’और‘‘दोषपूर्णजांच’’केकारण49आरोपियोंमेंसे30कोबरीकरदिया।अतिरिक्तसत्रन्यायाधीशसंदीपयादवनेकहाकिजांचमेंविभिन्नखामियांरहींऔरइसतरहकीदोषपूर्णजांचकेदौरानइकट्ठाकियेगयेसबूतकेआधारपर35सालपुरानेमामलेमेंआरोपियोंकोदोषीनहींठहरायाजासकता।गौरतलबहैकिदिल्लीमेंबसोंतथाअन्यसार्वजनिकस्थलोंऔरउत्तरप्रदेशतथाहरियाणाकेआसपासकेक्षेत्रोंमें10मई,1985कोट्रांजिस्टरमेंलगायेगयेबमोंमेंविस्फोटहुएथे।इनविस्फोटोंमेंकेवलदिल्लीमेंही49लोगोंकीमौतहोगईथीऔर127अन्यघायलहुएथे।दिल्लीपुलिसकेतत्कालीनडीसीपी(मध्य)केनेतृत्वमेंएकविशेषजांचदलनेआरोपपत्रमें59आरोपियोंकेनामोंकोशामिलकियाथा।इनमेंसेपांचघोषितअपराधीहैंऔरवेकभीभीसुनवाईकेदौरानपेशनहींहुए।निचलीअदालतनेजुलाई2006मेंपांचआरोपियोंको‘‘अपर्याप्तसबूत’’केकारणआरोपमुक्तकरदियाथा।शेष49आरोपियोंमेंसे19कीसुनवाईकेदौरानमौतहोगईथीजबकि30आरोपी1986सेजमानतपरहैं।अदालतनेअपने120पृष्ठकेफैसलेमेंकहा,‘‘कुछमामलोंमेंसरकारीगवाहजांचसेजुड़ेथेलेकिनअदालतमेंउनसेजिरहनहींकीगई।निर्विवादनिष्कर्षयहहैकिइनमामलोंमेंजांचदोषपूर्ण,एकतरफा,अनुचितऔरविभिन्नखामियोंसेपूर्णथी।आरोपियोंकोइसतरहकीदोषपूर्णजांचकेदौरानएकत्रकियेगयेसबूतकेआधारपरदोषीनहींठहरायाजासकताहै।अदालतनेकहाकिअभियोजनपक्षआरोपियोंकेखिलाफआरोपोंकोसाबितकरनेमेंविफलरहाहैऔरसुरजीतकौर,मनमोहनसिंह,गुरदेवसिंह,बूटासिंह,कुलबीरसिंहउर्फभोला,इंद्रजीतसिंहउर्फहैप्पी,हरदीपसिंह,तीरथसिंह,मुख्तियारसिंह,भूपिंदरसिंहउर्फभिंडा,अरविंदरसिंहउर्फनीटू,अनूपसिंहऔरमनजीतसिंहकोबरीकियाजाताहै।अदालतनेकहाकिजोगिंद्रपालसिंहभाटिया,तर्जितसिंह,सर्वजीतसिंह,सुरिंदरपालसिंह,दलजीतसिंह,राजिंदरसिंह,सेवासिंह,सुरिंदरपालसिंहउर्फडॉली,शाहबाजसिंह,सुखदेवसिंह,जसपालसिंह,दलविंदरसिंहउर्फपप्पा,नरेंद्रसिंह,गुरमीतसिंह,हरचरणसिंहगुरदीपसिंहसहगलऔरगुरमीतसिंहउर्फहैप्पीकोभीबरीकियाजाताहै।उसनेकहाकिपुलिसनेऐसेसबूतइकट्ठानहींकियेजिससेवहयहस्पष्टकरसकतीकिआरोपियोंद्वाराबसमेंलगायेगयेबमोंमेंविस्फोटहुआथायावेबिनाविस्फोटकेरहेऔरयदिउनमेंविस्फोटनहींहुआतोउन्हेंनिष्क्रियकियागयायानहीं।जांचपूरीहोनेऔरमुकदमासमाप्तहोनेपरहालमेंयहआदेशआया।मामलेकीसुनवाईमेंआठप्राथमिकियां,14आरोपपत्र,1,399गवाहोंऔरलगभग24न्यायाधीशशामिलरहे।इसमामलेमें30आरोपियोंकोहत्या,हत्याकाप्रयास,भारतसरकारकेखिलाफजंगछेड़नेसमेतआईपीसीकेतहतविभिन्नआरोपोंसेबरीकरदियागया।उत्तरप्रदेशऔरहरियाणाकेमामलोंकोबादमेंउच्चतमन्यायालयकेनिर्देशपरदिल्लीस्थानांतरितकरदियागयाथा।