आदर्श गांव मुहालो की बेदर्द दास्तां

संवादसहयोगी,दुमका:गोपीकांदरप्रखंडकेटांयजोरपंचायतकेआदिवासीगांवमुहालोकोआदर्शगांवकातमगातोदेदियागयालेकिनआजतकयहांकेलोगोंकोबुनियादीसुविधाएंमयस्सरनहींहोसकीं।आजभीयहांकेलोगपीनेकेपानीकेलिएतरसकररहजातेहैं।एककिलोमीटरदूरसेपानीढोकरलातेहैंतबजाकरइनकीप्यासबुझतीहै।इसगांवमेंआदिवासीवआदिमजनजातिपहाड़ियासमुदायकेकरीब72परिवाररहतेहैं।कहनेकोतोइसगांवकेआंगनबाड़ीकेंद्रवस्कूलमेंलगायेगयेचापाकलकोमिलाकरकुलसातचापाकलहैं।लेकिनएकभीचापाकलकायदेसेपानीनहींदेताहै।एकसोलरटंकीभीहैजोफरवरीसेखराबहै।ग्रामीणोंकीमानेंतोइसकीजानकारीबीडीओकोदीगयीहै।बीडीओनेखुदआकरइसशिकायतपरतसल्लीली।लेकिनआजतकयहसोलरटंकीचालूनहींहोसका।इतनाहीनहींदोसालसेगांवकेअधिकांशचापाकलखराबहैंकुछचालूभीहैंतोवहसहीतौरपरपानीनहींदेरहा।

दूरकेकुएंसेबुझरहीप्यास

गांवसेदूरस्थितपहाड़कीतराईमेंएककुआंहै,जिसकेपानीसेलोगोंकीप्यासबुझरहीहै।ग्रामीणोंकाकहनाहैकियहकुआंगांवसेएककिलोमीटरकीदूरीपरहैइसलिएवहांसेरोजानापानीढोनेमेंउन्हेंपरेशानीहोतीहै।उनकीमानेंतोजबइसगांवकोआदर्शग्रामकादर्जादियागयाथाउससमयआश्वासनदियागयाथाकिगांवमेंडीपबोरिंगकरायीजायेगी।लेकिनयहआश्वासनभीकोराहीरहा।

गांवकेचापाकलोंकाहाल

-सबनादेहरीकेघरकेसामनेकाचापाकलदोवर्षसेखराबहै।

-माइकलमुर्मूकेघरकेसामनेकाचापाकलकरीबएकवर्षसेखराबहै।

-दुजूलालहांसदाकेघरकेसामनेकाचापाकलकरीबछहमाहसेखराबहै।बहुतकमपानीदेताहै।

-स्टेफनहांसदाकेघरकेसामनेकाचापाकलदेरतकचलानेपरपानीआताहै।

-स्कूलकेचापाकलमेंमोटरलगायागयालेकिनटंकीमेंपानीनहींजाता

-मनोजहांसदाकेघरकेसामनेकाचापाकलकाफीमशक्कतकेबादपानीदेताहै

-आंगनबाड़ीकाचापाकलभीबहुतदेरचलानेपरपानीदेताहै।

कहतेहैंगांवकेलोग

मुहालोगांवकेग्रामीणठगामहसूसकररहेहैं।कहतेहैंकिआदर्शग्रामकेनामपरयहांकोईविकासनहींहुआहै।ग्रामीणकविराजहांसदा,रघुदेहरी,सबनादेहरी,मनोजहांसदा,राहेलमुर्मू,जॉनमुर्मू,मैनेजरटुडू,कामलीरानी,दुलड़सोरेन,पानमकुमरांडी,सुकरमुनिदेवी,साहबदेहरीनेसरकारवप्रशासनसेअविलंबचापाकलोंकोदुरूस्तकरानेकीमांगकीहै।