52 दिन तक हस्तशिल्प कारीगर सीखेंगे गुर

संवादसहयोगी,सुजानपुर:स्वयंसेवीसंस्थाप्रयासकेकन्वीनरसंजीवराजपूतनेप्रदेशकेहस्तशिल्पकारीगरोंकीस्थायीआजीविकाकोबढ़ानेऔरहस्तशिल्पकीकलाकोजीवितरखनेकेलिएसुजानपुरमेंएक्सपोर्टप्रमोशनकाउंसिलफॉरहैंडीक्राफ्ट्स(ईपीसीएच)केसहयोगसेस्टार्टकिएकार्यक्रममेंकढ़ाई,लेसऔरबांसकेकामगारोंकी52दिवसीयट्रेनिगकीशुरुआतहोनेकीजानकारीदीहै।संजीवराजपूतनेबतायाकिहिमाचलप्रदेशकेहस्तशिल्पकलाकाअपनाप्राचीनइतिहासरहाहैऔरदेशविदेशमेंहिमाचलकेहैंडीक्राफ्टसामग्रीकीअच्छीमांगहै।घरेलूएवंअंतरराष्ट्रीयबाजारमेंहिमाचलप्रदेशहस्तशिल्पउद्योगकोबढ़ावादेनेकेलिएहमारीप्रयासस्वयंसेवीसंस्थानेएक्सपोर्टप्रमोशनकाउंसिलफॉरहैंडीक्राफ्ट्स(ईपीसीएच)केसहयोगसेहिमाचलप्रदेशकेहस्तशिल्पकारीगरोंकीस्थायीआजीविकाकोबढ़ानेऔरहस्तशिल्पकीकलाकोजीवितरखनेकेलिएपिछलेदिनोंसुजानपुरमेंएककार्यक्रमकीशुरुआतकीहैजिसकेतहतआजसेकढ़ाई,लेसऔरबांसकेकामगारोंकी52दिवसीयट्रेनिगशुरूहोगईहै।प्रशिक्षणार्थियोंको300रुपयेप्रतिदिनकेहिसाबसेभुगतानकियाजाएगा।विशेषरूपसेसमाजकेकमजोरवर्गोंसेसंबंधितमहिलाओंकेलिएसमय-समयपरकार्यशालाएं,सेमिनारऔरउद्यमिताऔरविकासकार्यक्रमईपीसीएचद्वाराआयोजितकिएजारहेहैं।